मंगलवार, 28 दिसंबर 2010

"KHOOBSOORTI"

"खूबसूरती "
खूबसूरती अब पर्दों में नहीं
बस पर्दों पर ही दिखती है
ताक़त अब रगों में नहीं 
केवल कागज पर दिखती है
मेकअप से चमकती सुन्दरता
पसीने में बह जाती है
मय का जोश घटते ही
जुबान खामोश हो जाती है
वहम के नशे में जहाँ ये सारा है
मगर ये इंसां तो दिखावे का मारा है
औरत प्यार, इज्जत को तरसती है
तो आदमी की नज़र ...............................
बनावट की दुनिया से नहीं हटती है ........ 

12 टिप्‍पणियां:

  1. इस कहते है कविता
    किस खूबसूरती से सच का बखान किया किया
    वाह //
    नया साल मंगलमय हो संध्या जी

    उत्तर देंहटाएं
  2. संध्या जी
    नमस्कार......दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत रोचक और सुन्दर अंदाज में लिखी गई रचना .....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. बबनजी, संजय जी, वीनाजी, इतनी अच्छी और खूबसूरत प्रशंसा के लिए आप सब का तहे दिल से शुक्रिया..........
    मेरी ओर से भी नव वर्ष की हार्दिक - हार्दिक शुभ - कामनाएं आप सभी को.... .

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर रचना संध्या जी...
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मगर ये इंसान तो दिखावे का मारा है...

    सुन्दर रचना..
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बधाई ! अंदाज निराला हो जाए
    मन मतवाला गर हो जाए
    भूले न अमन उद्देश्य मुखर
    चमन भी निराला हो जाए |

    उत्तर देंहटाएं