शनिवार, 18 दिसंबर 2010

INTZAAR CHHANV KA

इंतज़ार छाँव का 
बोया था एक नन्हा सा बीज, 
इस छोटे से आँगन में,
सींचा था सहलाया था, 
उसे तेज धूप से बचाया था,
फूटी उसमे नन्ही - नन्ही पाती, 
उसकी एक पत्त्ती भी कुम्हलाती,
तो जैसे जान ही निकल जाती,
सोचा था बड़ा होकर फल देगा,
सुकून भरी ठंडी छाँव देगा......
अब जब वो  बड़ा हो गया है,
छोड़कर मेरे आँगन को ,
चला गया दुसरे के आँगन में,
उन्हें फल भी देता है, छाँव भी,
और मै............
अभी भी वहीँ खड़ा हूँ,
वही तपन है अब भी आँगन में,
सोचता हूँ ...................
लगा लूँ फिर से नया पौधा ???
पर क्या वो भी होकर बड़ा,
सहारा देगा मुझे फल, और छाँव का,
क्या ?? कर पाऊँगा इंतजार मैं,
उसके फल और छाँव का ...................................... 


   

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुंदर मर्मस्पर्शी /
    माँ बड़े जतन से बच्चो को पालती है /
    मगर बड़े होकर वे ...???
    एक श्रींगार रस से भरी कविता के लिए मेरे ब्लॉग पर आये /

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह !! एक अलग अंदाज़ कि रचना ......बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप लोगों को प्रशंशा के लिए धन्यवाद ...
    बस कुछ मन ने कहा और बन गई कविता...

    उत्तर देंहटाएं