शनिवार, 25 दिसंबर 2010

"EK AISI BHI GHADI AAYEGEE"

"एक ऐसी भी घडी आएगी"
"एक ऐसी भी घडी आएगी,
जिस्म से रूह बिछड़ जाएगी...
न कोई रुत न बहारें होंगी,
चांदनी रात भी दिल जलाएगी,
अब न कोई भी रौशनी होगी,
दिए से बाती भी बिछड़ जाएगी,
 न कोई ख्वाहिश न तमन्ना होगी,
ना कोई याद ही सताएगी...

एक ऐसी भी घडी आएगी,
जिस्म से रूह बिछड़ जाएगी"  



6 टिप्‍पणियां:

  1. न कोई रुत न बहारें होंगी,
    चांदनी रात भी दिल जलाएगी,

    दिल को छू जानेवाली बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति..बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल को छू लेने वाले जज़्बात....यही अंतिम सत्य है....

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसा कमाल का लिखा है आपने कि पढ़ते समय एक बार भी ले बाधित नहीं हुआ और भाव तो सीधे मन तक पहुँच गए..

    उत्तर देंहटाएं
  4. कमजोर होते रिश्तों का बखूबी चित्रण

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप सभी को इतने सारपूर्ण कमेंट्स के लिए धन्यवाद्..
    आखिर अंतिम सत्य तो यही है, इसे हम नज़र अंदाज़ नहीं कर सकते //

    उत्तर देंहटाएं