शुक्रवार, 24 दिसंबर 2010

"AAI BASANT BAHAAR"

"आई बसंत बहार"
पहन सुहानी धानी चूनर,
धरती ने किया श्रंगार,
सरसों पर छाई है मस्ती,
आई बसंत बहार...........
तितली फिरती फूल-फूल पर,
कलियों ने भी घूंघट खोला,
कोयल मीठे गीत सुनाती,
भौरों का मन भी है डोला,
कल-कल, कल-कल नदियाँ बहती,
झर-झर, झर-झर झरते झरने,
क्यारी-क्यारी लगी मुस्काने,
गेहूं जौ लगे लहराने,
चिड़िया चहकी, बुलबुल गाए,
भोर सुहानी सबको भाए,
ठंडी-ठंडी चली पुरवाई,
मौसम पर जवानी छाई,
वन उपवन को मिला नवजीवन,
पुलकित है मेरा भी मन........
रंग-बिरंगे फूल खिले हैं,
मिलकर सब गाते मल्हार,
आई बसंत बहार...
आई बसंत बहार.........


  

13 टिप्‍पणियां:

  1. जाड़े में बसंत
    बहुत बढ़िया
    --

    उत्तर देंहटाएं
  2. Pavanji hum to abhi se basant ko mahsoos kane lage hain, bahut khoobsoorat mausam hai hamare nagpur me...
    Thanks...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर शब्दों में सजा कर वसन्त ऋतू का वर्णन किया गया है!

    उत्तर देंहटाएं
  4. कविता के भाव और शब्दचयन दूसरे ही जगत में ले जाते हैं,और कुछ समय के लिए भूल जाते हैं अपने आसपास की दुनिया..बहुत सुन्दर..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर कविता ने बसंत खिला दिया ....बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. vaah kitne sunder shabdon me tareef karte hain aapkab bhi jawaab nahi sanjayji...
    Thanks, dhanywad, shukriya...........

    उत्तर देंहटाएं
  7. संध्या जी ॥
    वसंत को आपने शब्दों के वृक्ष से महका दिया /
    वसंत की आपको ढेरो शुब्कामना

    उत्तर देंहटाएं
  8. बसंत और प्रकृति का सुंदर चित्रण....

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप सभी को इन खूबसूरत कमेंट्स के लिए बहुत -बहुत धन्यवाद्...
    और वीना जी का स्वागत है, मेरे ब्लॉग पर..
    मेरी और से सभी को क्रिसमस की ढेर सारी शुभकामनायें.....

    उत्तर देंहटाएं
  10. vasant aane me der hai, par sabdo me dilhta

    vasant pyara laga..:)

    ab follow kar raha hoon barabar aaungaaaa

    उत्तर देंहटाएं
  11. Thanks for the compliments...
    Most Welcome u on my blog......

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर शब्दों में सजा वसन्त का वर्णन|शुभकामनायें|

    उत्तर देंहटाएं