सोमवार, 31 दिसंबर 2012

सूर्योदय होगा...संध्या शर्मा

जानती हूँ मैं
जो भी घटा
पहली बार नहीं
सदियाँ हो गई घटते
ज़ुल्म सहते-सहते
फिर भी आशान्वित हूँ
विपरीत परिस्थितियों में
यातनाओं से डरी नहीं हूँ
बहुत खुश हूँ आज
चिंगारी एक सुलगती दिखी है
हजारो युवा आँखों में मुझे
यही चिंगारी...

एक किरण बनेगी
हर साल की तरह
इस साल की सुबह 

अँधेरा नहीं लाएगी
एक किरण जगमगाएगी
आशा जाग उठी है
कल दूर अँधेरा होगा
नया सूर्योदय होगा...

28 टिप्‍पणियां:

  1. बिलकुल ही इस साल की सुबह अँधेरा नही लाएगी ....

    नव वर्ष की ढेरों शुभकामनाओं सहित हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. आशा जाग उठी है
    कल दूर अँधेरा होगा
    नया सूर्योदय होगा....aisa hi ho.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह वर्ष सभी के लिए मंगलमय हो..
    सुन्दर रचना...
    आपको सहपरिवार नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  4. नए सूर्योदय की प्रतीक्षा में ..आशावान हैं.
    नया साल आपको भी शुभ और मंगलमय हो.
    हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. नव वर्ष समस्त चराचर जगत के लिए मंगलमय हो, इसी कामना के साथ शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. नववर्ष की ढेरों शुभकामना!
    आपकी यह सुन्दर प्रविष्टि आज दिनांक 01-01-2013 को मंगलवारीय चर्चामंच- 1111 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  7. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  8. नूतन वर्षाभिनंदन मंगलकामनाओं के साथ.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत उम्दा.बेहतरीन श्रृजन,,,,
    नए साल 2013 की हार्दिक शुभकामनाएँ|
    ==========================
    recent post - किस्मत हिन्दुस्तान की,

    उत्तर देंहटाएं
  10. With prayers to God
    to made HER family
    able to bear the great pain

    with hope for the country
    to see the real change

    i wish everyone a very Happy New Year 2013.

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपको भी नया साल बहुत बहुत मुबारक। और मेरी तरफ से शुभकामना।

    उत्तर देंहटाएं
  12. nav varsh me umeed bandhati behtreen Rachna ...Badhai.
    http://ehsaasmere.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  13. दिन तीन सौ पैसठ साल के,
    यों ऐसे निकल गए,
    मुट्ठी में बंद कुछ रेत-कण,
    ज्यों कहीं फिसल गए।
    कुछ आनंद, उमंग,उल्लास तो
    कुछ आकुल,विकल गए।
    दिन तीन सौ पैसठ साल के,
    यों ऐसे निकल गए।।
    शुभकामनाये और मंगलमय नववर्ष की दुआ !
    इस उम्मीद और आशा के साथ कि

    ऐसा होवे नए साल में,
    मिले न काला कहीं दाल में,
    जंगलराज ख़त्म हो जाए,
    गद्हे न घूमें शेर खाल में।

    दीप प्रज्वलित हो बुद्धि-ज्ञान का,
    प्राबल्य विनाश हो अभिमान का,
    बैठा न हो उलूक डाल-ड़ाल में,
    ऐसा होवे नए साल में।

    Wishing you all a very Happy & Prosperous New Year.

    May the year ahead be filled Good Health, Happiness and Peace !!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. जन्म लेता है उजाला हर तमस के गर्भ से,
    क्यों नहीं फिर आज स्वर्ण-विहान की बातें करें।

    शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. "शाम छुपाले सूरज मगर..रात को एक दिन ढलना ही है"
    नववर्ष की अनंत शुभकामनाएँ..

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  16. उम्मीद है की बदलाव होगा .........आपको सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति
    नब बर्ष (2013) की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    मंगलमय हो आपको नब बर्ष का त्यौहार
    जीवन में आती रहे पल पल नयी बहार
    ईश्वर से हम कर रहे हर पल यही पुकार
    इश्वर की कृपा रहे भरा रहे घर द्वार.

    उत्तर देंहटाएं
  18. उम्मीद का सूरज कभी अस्त नहीं होता ...बस मन में अटूट विश्वास जरुरी हैं ....
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति ....नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें..

    उत्तर देंहटाएं
  19. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  20. सार्थक सन्देश...
    यह वर्ष सभी के लिए मंगलमय हो इसी कामना के साथ..आपको सहपरिवार नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ...!!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सार्थक सन्देश...नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  22. नव वर्ष शुभ और मंगलमय हो संध्या जी |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  23. ऐसा ही हो..नव वर्ष की समस्त शुभकामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. आशा है,दामिनी की पीडा और बलिदान समाज व व्यवस्था के नज़रिये
    को बदल पाए.

    उत्तर देंहटाएं
  25. आमीन ...
    आपको ओर परिवार में सभी को नव वर्ष की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. कोई जगाए,कोई झकझोरे,कोई कहे
    उठ,नए विश्वास से बंजर धारा से खुद को जोड़
    बधिर नभ को अपने ही मौन की किलकारियों से फोड |


    नयी उम्मीदों के साथ नववर्ष की शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  27. जहा चाह वही राह ... हम लोग जानते है ...

    उत्तर देंहटाएं