मंगलवार, 3 जुलाई 2012

जीवन के रंग.... संध्या शर्मा

http://onesoulpurpose.files.wordpress.com/2010/01/188701335_f0282189d2_wuhse_7777.jpg

संध्या वेला 
जीवन की
हिसाब लगाया
कितना कमाया
क्या गंवाया

कमाया...?
धन, ऐश्वर्य, मान
गंवाया ...?
स्नेह - सुख,
अपनों  का साथ

आयु घटी
बढ़ा धन
अपने हुए दूर
हाथ लगे
बस चार क्षण 

दुःख मनाऊँ, अभिमान करूँ
या स्नेह दूँ, सुख दूँ उन्हें
जो कबके आगे निकल गए
मुझे अकेला छोड़ किनारे 
नफे घाटे का हिसाब जोड़ते ....

मन में आस है
दूर तलक जाने का
विश्वास है 
चार पल ही सही
जीवन है यही

कोई न हो न सही
निस्संग हूँ
नहीं हूँ एकाकी
मेरा मन
मेरा साथी...

25 टिप्‍पणियां:

  1. मन में आस है
    दूर तलक जाने का
    विश्वास है
    चार पल ही सही
    जीवन है यही
    अच्‍छी और भाव भरी रचना।
    शुभकामनाएं आपको

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढि़या लिखा है संध्या जी आपने। बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर सटीक रचना..संध्या जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीवन की उहापोह को बेहतर शब्द दिए हैं आपने इस रचना के माध्यम से.......!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही बेहतरीन और सटीक रचना..
    जब मन साथी हो तो हम अकेले कहाँ
    सुन्दर भाव लिए रचना....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. जीवन में बहुत कमाया,धन ऐश्वर्य, और मान,
    जोड़घटा के हिसाब लगाया अंत रहा नुकसान!

    अंत रहा नुकसान, मेरा अबिमान जब टूटा,
    नही मिला स्नेह,सुख,अपनों का साथ भी छूटा!

    बैठ अकेले जब,नुकसान का हिसाब मिलाते,
    तन्हा अकेला रह गया छूट गए रिश्ते नाते!

    MY RECENT POST...:चाय....

    उत्तर देंहटाएं
  8. कमाया...?
    धन, ऐश्वर्य, मान
    गंवाया ...?
    स्नेह - सुख,
    अपनों का साथ
    ..waah....satik....abhiwayakti....

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर....अर्थपूर्ण पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  10. कमाया...?
    धन, ऐश्वर्य, मान
    गंवाया ...?
    स्नेह - सुख,
    अपनों का साथ ... yahi rang milte hain

    उत्तर देंहटाएं
  11. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    उम्दा प्रस्तुति के लिए आभार


    प्रवरसेन की नगरी
    प्रवरपुर की कथा



    ♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

    ♥ जीवन के रंग संग कुछ तूफ़ां, बेचैन हवाएं ♥


    ♥शुभकामनाएं♥

    ब्लॉ.ललित शर्मा
    ***********************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    उत्तर देंहटाएं
  12. अच्‍छी और भाव भरी रचना।
    शुभकामनाएं आपको.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. जीवन में ऐसे हिसाब किताब जब जब इंसान लगाता है .. कुछ हाथ नहीं आता है ... अंत में बस खुद का साथी खुद ही रह जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. मन में आस है
    दूर तलक जाने का
    विश्वास है
    चार पल ही सही
    जीवन है यही

    बहुत ही सुन्दर लगी पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  15. कोई न हो न सही
    निस्संग हूँ
    नहीं हूँ एकाकी
    मेरा मन
    मेरा साथी... बस यही तो है सत्य।

    उत्तर देंहटाएं
  16. मन में आस है
    दूर तलक जाने का
    विश्वास है
    चार पल ही सही
    जीवन है यही

    बहुत खूब....

    उत्तर देंहटाएं
  17. आस है तो सांस लेता जीवन भी पास है..अन्यथा..हाथ से रेत फिसलता ही जाता है..सुन्दर लिखा है..

    उत्तर देंहटाएं
  18. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    बेहतरीन रचना

    सावधान सावधान सावधान
    सावधान रहिए



    ♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

    ♥ सावधान: एक खतरनाक सफ़र♥


    ♥ शुभकामनाएं ♥

    ब्लॉ.ललित शर्मा
    **************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    उत्तर देंहटाएं
  19. मेरा मन
    मेरा साथी...

    और शायद यही है सच्चा साथी

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह...
    बहुत सुन्दर अर्थपूर्ण कविता...

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  21. कमाया...?
    धन, ऐश्वर्य, मान
    गंवाया ...?
    स्नेह - सुख,
    अपनों का साथ


    सबके मन की बात कह दी .... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाकई इससे अच्छा साथी कोई नहीं !
    बधाई आपको !

    उत्तर देंहटाएं