बुधवार, 25 जुलाई 2012

तू गुमान है मेरा...



उजाले खड़े हैं राह में
तेरे इंतज़ार में
बुलंद हौसलों की कश्ती
समंदर में उतार दे
तेरे इरादों की पतवार
पार कर लेगी हर समंदर
सुना है मंजिल की चाहत
मुश्किल आसान कर देती है
राह चाहे कितनी भी दुश्वार हो
मंजिल की ओर मुड़ जाती है
क्या हुआ जो वक़्त की धुंध छाये
आंधी चले या तूफ़ान आए
तू चल देख अब मंजिल करीब है
अपने ही हाथों लिखना अपना नसीब है
कुछ देर और शायद इम्तेहां है तेरा
सितारों के बीच तू आफ़ताब है मेरा
बस इतना समझ ले तू गुमान है मेरा
तू ख्वाब है मेरा, सारा जहान है मेरा...

24 टिप्‍पणियां:

  1. बस इतना समझ ले तू गुमान है मेरा
    तू ख्वाब है मेरा, सारा जहान है मेरा.
    वाह .. वाह बहुत ही बढि़या ... अनुपम प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर संध्या जी.....
    मधुर एहसास...

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. सब्र कर प्यारे वो मंजर भी आयेगा ,
    प्यासे के पास चलकर समंदर भी आयेगा ,

    अच्छी कविता ...
    Keep Writing Ma'm on this topic..
    Thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  4. यही गुमान ही सारी मुश्किलें आसान कर देती है..फिर मंजिल की कौन परवा करता है..सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुछ देर और शायद है इम्तेहां तेरा
    सितारों के बीच तू आफ़ताब है मेरा
    बस इतना समझ ले तू गुमान है मेरा
    तू ख्वाब है मेरा, सारा जहान है मेरा...वाह : बहुत खुबसूरत रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  6. जिंदगी के इम्तहानों में हंस कर गुजर जाने की प्रेरणा देती सुंदर कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर अभिव्यक्ति
    बुलंद हौसलों की कश्ती
    समंदर में उतार दे
    तेरे इरादों की पतवार
    पार कर लेगी हर समंदर
    सुना है मंजिल की चाहत
    मुश्किल आसान कर देती है

    उत्तर देंहटाएं
  8. बुलन हौसले हो तो मंजिल खुद-ब -खुद
    हाथ थामती है..प्रेरणादायी बेहतरीन अभिव्यक्ती...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  9. बस इतना समझ ले तू गुमान है मेरा
    तू ख्वाब है मेरा, सारा जहान है मेरा..

    behatarin abhiwyakti

    उत्तर देंहटाएं
  10. बस इतना समझ ले तू गुमान है मेरा
    तू ख्वाब है मेरा, सारा जहान है मेरा...

    बहुत बढ़िया प्रस्तुती, सुंदर रचना,,,,,

    RECENT POST काव्यान्जलि ...: आदर्शवादी नेता,

    उत्तर देंहटाएं
  11. तू चल देख अब मंजिल करीब है
    अपने ही हाथों लिखना अपना नसीब है

    बुलंद होंसले और मजबूत इरादे लिए काफी कुछ गहराई में लिखा है इस रचना में.



    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स

    उत्तर देंहटाएं
  12. इरादे मजबूत हों तो मंजिल पास आ जाती है ... जोशीली रचना है ... लाजवाब ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत खुबसूरत और आशा से भरी पंक्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. कल 27/07/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बस इतना समझ ले तू गुमान है मेरा
    तू ख्वाब है मेरा, सारा जहान है मेरा...

    बहुत बढ़िया प्रस्तुती, सुंदर रचना,,,,,

    RECENT POST,,,इन्तजार,,,

    उत्तर देंहटाएं
  16. बस इतना समझ ले तू गुमान है मेरा
    तू ख्वाब है मेरा, सारा जहान है मेरा..
    प्रोत्साहन देती पंक्तियाँ है...... बहुत बढिया रचना

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह! क्या खूबसूरत रचना...
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  18. उजाले खड़े हैं राह में
    तेरे इंतज़ार में
    बुलंद हौसलों की कश्ती
    समंदर में उतार दे ...
    बेहतरीन पंक्तियाँ ....कई सीख दे जाती है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. तू चल देख अब मंजिल करीब है
    अपने ही हाथों लिखना अपना नसीब है

    बहुत सुंदर।
    प्रेरित करती पंक्तियां।

    उत्तर देंहटाएं