सोमवार, 4 जून 2012

यादें...संध्या शर्मा



आज मिले फुर्सत के कुछ पल,
बक्सों में बंद यादों संग हो ली.

जीर्ण होती एक-एक परत,
बड़े ही जतन से खोली.

मैंने इनसे कुछ ना कहा,
ये मुझसे जीभर के बोली.

कितनी अकेली थी मैं,
जब ये यादें ना थीं.

आज जब पड़ा इनसे वास्ता,
लगा यही हैं मंजिल मेरी - यही रास्ता.

मैंने भी बना लिया इन्हें हमराज़,
हर परत में संजो कर अपना आज.

एक दिन ये खुशबू की तरह फैलेगी,
आज मौन है कल खूब बोलेगी.

21 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत कुछ याद दिला जाती हैं यादें .. सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. सचमुच यह यादें जीवन के अनुभूत सत्यों को संजो कर रखती हैं, कभी आगे बढ़ने की प्रेरणा बनती हैं और कभी ??? लेकिन जीवन कहाँ रुकता है . इसलिए इन्हें संजोना ही बेहतर होता है, परत दर परत ....!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बोलेगी तो कई राज़ भी खोलेगी..सुन्दर लिखा है..

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये यादें जब तहों से बाहर आती हैं तो अपना आप भी कई तहों से बाहर आ जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बोलेंगीं.....
    बहुत बोलती हैं यादें.....
    मन की परतें खोल देतीं हैं......

    सुंदर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैंने भी बना लिया इन्हें हमराज़,
    हर परत में संजो कर अपना आज.
    एक दिन ये खुशबू की तरह फैलेगी,
    आज मौन है कल खूब बोलेगी.
    बहुत, बहुत सुन्दर
    सुन्दर भाव से संजोयी बेहतरीन रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  7. मन मोहक सुंदर भाव संजोये लाजबाब प्रस्तुति ,,,,,

    MY RESENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: स्वागत गीत,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खुबसूरत यादें जीवन को प्रेरणा देती है....बेहतरीन रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  9. मैंने भी बना लिया इन्हें हमराज़,
    हर परत में संजो कर अपना आज.

    एक दिन ये खुशबू की तरह फैलेगी,
    आज मौन है कल खूब बोलेगी.

    बहुत खूब !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. अच्छी यादें ...........आपकी को पोस्ट हिन्दी ब्लॉग परिवार में लिंक दिया जा रहा है ! कृप्या इससे जुड़े ओर अपने प्रतिक्रिया जरुर दे

    उत्तर देंहटाएं
  11. मौन यादें चुपचाप बोलती हैं
    अंतरमन की गिरह खोलती हैं
    पहुंचती हैं सातवें आसमान पे
    पवन सम सर्वत्र ही डोलती हैं

    सुंदर भावाभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  12. यादें बोलती हैं...और कभी खुशी कभी गम से रूबरू करा जाती हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक दिन ये खुशबू की तरह फैलेगी,
    आज मौन है कल खूब बोलेगी.

    सुन्दर....
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  14. कितनी अकेली थी मैं,
    जब ये यादें ना थीं.

    ....बिलकुल सच...ये यादें ही तो जीने का संबल हैं...बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  15. यादो की अंतहीन अभिवयक्ति.....खुबसूरत अभिवयक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं