गुरुवार, 14 जून 2012

तलाश... संध्या शर्मा



प्रश्न - उत्तर 
समस्या - समाधान
उलझन ही उलझन
अस्तित्वहीनता
डरा सहमा मन
उबरने की कोशिश
लड़खड़ाते कदम
मन कुछ कहता है
और दिमाग कुछ
भटकता है
मन
कानन - कानन ...
मीलों नंगे पाँव
कंटीली, पथरीली राह
घायल क़दम
भागता मन
थका - थका सा
तभी....
देती है
सुनाई
एक आवाज़ 
यह तो है शुरुआत
ढल जाएगी रात
कुहासा छंट जायेगा
चलते चलो 
मंजिल होगी
तुम्हारे पास 
चमक उठती हैं
मन की आँखें
झलक जाती हैं
ख़ुशी से
मन धीरे से
कुछ कहता है...

और चल पड़ता है
दुगुने उत्साह से
बिना थके / बिना रुके
लम्बी रात
सी राह पर
तलाश में
एक सुनहरी सुबह की ...

26 टिप्‍पणियां:

  1. आत्मबल से संसार में कोई बलवान नहीं। मनुष्य का संकट के समय कोई साथी नहीं होता। ऐसे समय में उसका आत्मबल ही सहारा देकर उसे मंजिल तक पहुंचाता है। उलझे हुए विचारों को अंतरात्मा की आवाज ने संबंल दिया और पथिक चल पड़ा सुनहरी सुबह की आस में। जो उससे दूर नहीं, एक दिन मंजिल अवश्य मिल जाएगी उसे।

    कवि हरिवंश राय बच्चन का स्मरण हो आता है - राह पकड़ कर एक चला चल, पा जाईएगा मधुशाला। उत्तमकाव्याकृति

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब कोइ रास्ता न दिखाई दे..
    अंतर्मन की आवाज सुनानी चाहिए..
    खुद को हिम्मत देकर काम करे तो
    कोई न कोई रास्ता निकल ही आता है..
    बहुत सुंदर प्रेरनादायी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह हौसला कभी न ख़त्म हो, तभी तो कई सूरज अपने साथ होंगे

    उत्तर देंहटाएं
  4. वो सुबह कभी तो आयेगी ………हौसला बना रहे

    उत्तर देंहटाएं
  5. और यही क्रम चलता रहता है ....सुन्दर पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह तो है शुरुआत ढल जाएगी रात कुहासा छंट जायेगा चलते चलो मंजिल होगी तुम्हारे पास,,,,,

    बहुत सुंदर प्रस्तुति,,,बेहतरीन रचना,,,,,

    MY RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: विचार,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  7. हर काली रात के बाद की सुन्दर सुबह सी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेचैन मन की उथल पुथल को बेहद सटीक शब्दों में ढाल कर....एक सार्थक कविता की प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. निराशा में आशा की झलक आगे बढ़ाने का हौसला देती है ...सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  10. उम्मीद पर दुनिया कायम है...सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहतरीन, आत्मविश्वास से परिपूर्ण रचना


    मिलिए सुतनुका देवदासी और देवदीन रुपदक्ष से रामगढ में

    जहाँ रचा कालिदास ने महाकाव्य मेघदूत।

    उत्तर देंहटाएं
  12. घायल क़दम
    भागता मन
    थका - थका सा
    तभी....
    देती है सुनाई
    एक आवाज़
    बहुत ही सुंदर पंक्तियाँ... सुंदर भाव अभिव्यक्ति...!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. निराश मन को आस बंधाती एक सुंदर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  14. अच्छी प्रस्तुति । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    बेहतरीन रचना


    दंतैल हाथी से मुड़भेड़
    सरगुजा के वनों की रोमांचक कथा



    ♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

    ♥ पढिए पेसल फ़ुरसती वार्ता,"ये तो बड़ा टोईंग है !!" ♥


    ♥सप्ताहांत की शुभकामनाएं♥

    ब्लॉ.ललित शर्मा
    *****************************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    उत्तर देंहटाएं
  16. ढल जायेगी रात सुबह फिर आयेगी...यही आशा जीवन का संबल है....बहुत सुन्दर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  17. Aankhon Ke Aansoo Ab Pani BanKe Behne Laga Mano Barsaat Ho Rahi Hai. Thank You For Sharing.
    Pyar Ki Kahani

    उत्तर देंहटाएं