शनिवार, 11 फ़रवरी 2012

अभियान नए- बलिदान नए... संध्या शर्मा

सकल भुवन के आँगन गूंजे,
आलोकित मंगल - गान नए .
कोटि-कोटि जन मिलजुल छेड़ें,
एकता के अभियान नए .
कैसी थी वह हिम्मत अपनी,
कौन सा था वह अद्भुत बल .
छुपे थे जिसमे सब प्रश्नों के,
सीधे सच्चे सुन्दर हल .

जिसने गुलामी की बेडी को,
काट हमें आज़ाद किया .
नए सिरे से उजड़े गुलशन को,
फिर जिसने आबाद किया .
वक़्त मांगता उसी शक्ति से,
फिर हमसे बलिदान नए .
बेशक पूरब - पश्चिम जायें,
उत्तर- दक्षिण की धारा जोड़ें .
जाल बिछा लम्बी सड़कों का,
चाहे भारत सारा जोड़ें .
लेकिन उससे पहले जोड़ें,
टूटे, बिखरे, छिटके दिल .
नवयुग के नवराष्ट्र  यज्ञ में,
बच्चा-बच्चा होगा शामिल .

ऊँच-नीच का रंग-रूप का,
भेद भूल करें काम नए.
हर भारतवासी जन को,
एक दीपक सा बनना होगा .
पहले खुद के भीतर का ही,
अँधियारा हरना होगा .
जिन्हें प्रकाशित करना है,
अपनों का जीवन .
उन्हें सत्य की ज्वाला में,
हर एक पल जलना होगा .
दिव्य पराक्रम से ही होंगे,
सृजन नए, निर्माण नए.

लाल हैं हम भारत-माता के,
अलग कभी ना हो सकते .
सब मिल देंगे माता को,
रत्न नए परिधान नए .
कोटि-कोटि जन मिलजुल छेड़ें,
एकता के अभियान नए.....


22 टिप्‍पणियां:

  1. हर भारतवासी जन को,
    एक दीपक सा बनना होगा .
    पहले खुद के भीतर का ही,
    अँधियारा हरना होगा .
    जिन्हें प्रकाशित करना है,
    अपनों का जीवन .
    उन्हें सत्य की ज्वाला में,
    हर एक पल जलना होगा .
    दिव्य पराक्रम से ही होंगे,
    सृजन नए, निर्माण नए... ओजस्वी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. सार्थक आव्हान ....बहुत सुंदर भाव हैं रचना के....

    उत्तर देंहटाएं
  3. देशभक्ति के जज्‍बे को सलाम।
    बेहतरीन कामना....

    उत्तर देंहटाएं
  4. लाल हैं हम भारत-माता के,
    अलग कभी ना हो सकते .
    सब मिल देंगे माता को,
    रत्न नए परिधान नए .
    कोटि-कोटि जन मिलजुल छेड़ें,
    एकता के अभियान नए.....

    ओजपूर्ण भावों में रचित यह रचना अभियानों और बलिदानों को नए आयाम देती है ......!

    उत्तर देंहटाएं
  5. लाल हैं हम भारत-माता के,
    अलग कभी ना हो सकते .
    सब मिल देंगे माता को,
    रत्न नए परिधान नए .
    कोटि-कोटि जन मिलजुल छेड़ें,
    एकता के अभियान नए.....

    एकता ही किसी राष्ट्र का संबल है।
    प्रेरणादायी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  6. राष्‍ट्र निर्माण की मंगल धुन.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर लाजबाब प्रस्तुतीकरण|

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर लाजबाब प्रस्तुतीकरण|

    उत्तर देंहटाएं
  9. ओजपूर्ण आव्हान..बहुत सुंदर रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहतरीन ओजपूर्ण सुंदर सार्थक रचना,
    बहुत अच्छी प्रस्तुति,....

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेशक पूरब - पश्चिम जायें,
    उत्तर- दक्षिण की धारा जोड़ें .
    जाल बिछा लम्बी सड़कों का,
    चाहे भारत सारा जोड़ें .
    लेकिन उससे पहले जोड़ें,
    टूटे, बिखरे, छिटके दिल .

    ...बिलकुल सच...बहुत ओजपूर्ण रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  13. देश प्रेम की भावना जागृत करती ... एक सोत्र में पिरोने की ललक लिए ... लाजवाब रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर सृजन , बधाई.

    मेरे ब्लॉग"meri kavitayen" की नवीनतम पोस्ट पर आप सादर आमंत्रित हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुंदर और ओजमयी प्रस्तुति...आभार
    (इस रचना पर मैंने पहले भी कमेन्ट दिया था, लेकिन दिखाई नहीं दिया शायद स्पैम फोल्डर में चला गया.)

    उत्तर देंहटाएं