बुधवार, 3 अक्तूबर 2012

क्षण....संध्या शर्मा

क्षण हँसते 
क्षण बोलते
क्षण आते
मानव बनकर

पास बुलाते
दूर करते
क्षण रोते
वेदना बनकर

रंग बदलते
रूप बदलते
क्षण दिखते
चेहरा बनकर 

क्षण शब्द
क्षण भाव
क्षण आते
कविता बनकर

क्षण नींद 
क्षण नयन
क्षण आते  
सपना बनकर

क्षण बूँद
क्षण नीर
क्षण बहते
झरना बनकर

क्षण संगी
क्षण साथी
क्षण मिलते
अपना बनकर........

16 टिप्‍पणियां:

  1. क्षण क्षण का लेखा जोखा ...बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरत पंक्तियाँ लिखी हैं आपने बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. हर क्षण का सुन्दर लेखा जोखा...

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्षण में कितने क्षण लिख डाले आपने सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये सारा खेला एक क्षण का ही तो है...

    सुन्दर!!!

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. हर क्षण को बखूबी शब्दों में व्यक्त किया है,,
    हर क्षण की अपनी दास्ताँ..
    बहुत बेहतरीन रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्षण त्यागे कुतो विद्या, कण त्यागे कुतो धनं की याद दिला दी आपने

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छी रचना

    छोटे छोटे शब्दों की जो माला आपने बनाई है
    इसकी यही खूबसूरती है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. उत्कृष्ट एवं अर्थपूर्ण शब्द संयोजन

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह बहुत सुंदर ...एक क्षण मे कितना कुछ समाया होता है ...बहुत विस्तृत सोच ...संध्या जी ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. कल 07/10/2012 को आपकी यह खूबसूरत पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर भाव। पढ़कर मन त्रिप्त हो गया कभी मेरे ब्लौग http://www.kuldeepkikavita.blogspot.com पर भीआना अच्छा लगेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह बहुत उत्कृष्ट एवं सुंदर .

    उत्तर देंहटाएं