रविवार, 21 अक्तूबर 2012

लिख सको तो..... संध्या शर्मा

http://static.desktopnexus.com/thumbnails/460753-bigthumbnail.jpgलिख सको तो ऐसा गीत लिखो,
जो हार में भी हो वो जीत लिखो.

एक प्यारा सा मनमीत लिखो,
कुछ छाँव लिखो कुछ धूप लिखो.


जो मेरे लिए हो वो प्रीत लिखो,
कुछ महके से जज़्बात लिखो.

कुछ सपनो की सौगात लिखो,
एक पल में बीता साल लिखो.

सदियों लम्बा इंतज़ार लिखो,
वो पहली पहली बात लिखो.

जब हाथों में था हाथ लिखो,
फिर तारों की बरसात लिखो.

तुम मुझको अपने साथ लिखो,
कुछ दूरी का अहसास लिखो.

वो आस लिखो विश्वास लिखो,
व्याकुल नयनो की प्यास लिखो.

वो भीगे-भीगे दिन रात लिखो,
कुछ खास लिखो, खास लिखो.

 

23 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर रचना, क्या बात

    लिख सको तो ऐसा गीत लिखो,
    जो हार में भी हो वो जीत लिखो.

    एक प्यारा सा मनमीत लिखो,
    कुछ छाँव लिखो कुछ धूप लिखो.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह,,,,बेहतरीन रचना,,,,

    लिख सको तो ऐसा गीत लिखो,
    जो हार में भी हो वो जीत लिखो.,,,,

    RECENT POST : ऐ माता तेरे बेटे हम

    उत्तर देंहटाएं
  3. ज़रूरी है कि लिखते रहो....
    बहुत सुन्दर !!!

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. जब हाथों में था हाथ लिखो,
    फिर तारों की बरसात लिखो.

    तुम मुझको अपने साथ लिखो,
    कुछ दूरी का अहसास लिखो.

    बेहतरीन पंक्तियाँ


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. भावनाओं को व्यक्त करती सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या बात है बेहतरीन रचना...
    बहुत सुंदर.....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. भावनाओं का सहज प्रवाह .....लिखो ..!

    उत्तर देंहटाएं
  8. जो लिखा वो सार्थक लिखा ...बहुत ही खूब

    उत्तर देंहटाएं
  9. हार में भी जीत-ऐसा गीत लिखो .... तुम जीत जाओगे

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी लाइन को सस्नेह समर्पित
    जो मेरे दिल के बहुत पास है वो तेरा एहसास है
    सदियों से सोच मन में हम मिलेंगे ही विश्वास है

    उत्तर देंहटाएं
  11. अति भावपूर्ण एवं प्रवाहमयी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर . . . आपके इन ब्लॉग्स को पढ़ते-पढ़ते मेरे मन में कई प्रश्न उठते हैं। यह सब मेरे लिये अत्यन्त चिन्तनीय विषय है।

    स्वामी विवेकानन्द के 150 वेँ जन्म वर्ष को सम्पूर्ण भारत में विवेकानन्द सार्ध शती समारोह वर्ष के रूप में मनाया जायेगा यह ब्लॉग इस भारत जागो! विश्व जगाओ!! विश्व-व्यापी महाभियान की विभिन्न गतिविधियों को जन-सामान्य तक पहुँचाने के उद्देश्य से बनाया गया है, कृपया अपना मार्गदर्शन अवश्य देवें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. एकदम सही...." लिखो तो खुछ ख़ास लिखो " bahut sundar rachna...waise bhi apki rachnaayen kah sakte hain "SANGAM" hain...sabhi tarah ki kavitaayen sammilit hain ..sahaj saral saahityik....

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपने तो लिख ही दी कुछ खास चीज़

    उत्तर देंहटाएं
  15. उम्दा भाव के साथ लिखने के लिए आह्वान एवं प्रेरणा जगाती रचना..........आभार

    उत्तर देंहटाएं
  16. एक प्यारा सा मनमीत लिखो,
    कुछ छाँव लिखो कुछ धूप लिखो.

    उत्कृष्ट रचना ..... बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही शानदार लिखा...बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  18. निश्चित ही अपने जज्बातों को अच्छी तरह बयां करने का साधन लेखन से बेहतर कुछ नहीं हो सकता...सुंदर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत ही अच्छा लिखा है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर, अद्भुत, बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत प्यारा व दिल को छूता गीत।

    उत्तर देंहटाएं