सोमवार, 30 अप्रैल 2012

प्रणय.... संध्या शर्मा

तरंग सरिता की
हिलोरें लेने लगीं
नयनो में
बांध भावनाओं का
फूट पड़ा
शिथिल कर गईं
पलकों को
भावहीन हवाएं
अंतस अनंत गहरा
घोर अँधेरा
मौन हूँ मैं
और तुम....!
बह रहे हो
झर-झर 
इन नयनो से
झरने की तरह
क्यों ना तुम
भींच लो मुट्ठी
निचोड़ दो बादलों को
भर दो प्रणय सरिता
और मैं....!
समेट लूँ तुमको
मूंदकर पलकें....

29 टिप्‍पणियां:

  1. भींच लो मुट्ठी
    निचोड़ दो बादलों को
    भर दो प्रणय सरिता
    और मैं....!
    समेट लूँ तुमको
    मूंदकर पलकें....

    पलकें मूंदकर समेटना ......खुद किसी के हो जाना और किसी को खुद में समाहित करना .....बेहतर रचना .....!

    उत्तर देंहटाएं
  2. निचोड़ दो बादलों को
    भर दो प्रणय सरिता
    और मैं....!
    समेट लूँ तुमको
    मूंदकर पलकें....

    बहुत सुंदर प्रस्तुति,..बेहतरीन रचना,....

    MY RESENT POST .....आगे कोई मोड नही ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. देखो कोई कह न देना इसे पानी
    यह नयनों का खारा जल है
    इसे मुट्ठी में पकड़ कोई पाता
    किसमें यह अतुलित बल है?

    बांध न सका कोई बांध इस पर
    बहता सरिता का निर्मल जल है
    प्रणय सरिता सदा प्रवाहित होगी
    जैसा प्रवाह आज, वैसा कल है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भींच लो मुट्ठी
    निचोड़ दो बादलों को
    भर दो प्रणय सरिता
    गहन ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह............

    बहुत सुंदर...भावपूर्ण प्रस्तुति...

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्राकृतिक अनुभूति प्रणय की

    उत्तर देंहटाएं
  7. गहनता लिए हुए
    बहुत ही सुन्दर रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. और मैं....!
    समेट लूँ तुमको
    मूंदकर पलकें....वाह! बहुत खुबसूरत एहसास पिरोये है अपने......

    उत्तर देंहटाएं
  9. निचोड़ दो बादलों को
    भर दो प्रणय सरिता
    और मैं....!
    समेट लूँ तुमको
    मूंदकर पलकें....

    बहुत सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  10. मनमोहक है कल-कल करती प्रणय सरिता..

    उत्तर देंहटाएं
  11. भींच लो मुट्ठी
    निचोड़ दो बादलों को
    भर दो प्रणय सरिता
    और मैं....!
    समेट लूँ तुमको
    मूंदकर पलकें....

    अद्भुत भाव संयोजन ... भाव प्रवण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्यों ना तुम
    भींच लो मुट्ठी
    निचोड़ दो बादलों को
    भर दो प्रणय सरिता
    और मैं....!
    समेट लूँ तुमको
    मूंदकर पलकें....
    I AM VERY VERY JEALOUS OF YOU AND YOUR DEEP FEELINGS AND EMOTION.
    I AM SPEECHLESS ONE MORE THING I WOULD LIKE TO SAY THANKS FOR BEAUTIFUL PICTURE WITH DROP OF TEAR.

    उत्तर देंहटाएं
  13. क्यों ना तुम
    भींच लो मुट्ठी
    निचोड़ दो बादलों को
    भर दो प्रणय सरिता
    और मैं....!
    समेट लूँ तुमको
    मूंदकर पलकें...
    behatariin rachana . sudar bhaav sanyojan

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुंदर प्रेम कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  15. एहसासों शब्द देना आसान नहीं वाह क्या बात है
    बधाईयां

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत बढ़िया प्रस्तुति, सुंदर अहसासों की प्यार भरी रचना,.....

    MY RECENT POST.....काव्यान्जलि.....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    उत्तर देंहटाएं
  17. भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत सुंदर....

    उत्तर देंहटाएं
  18. निचोड़ दो बादलों को
    भर दो प्रणय सरिता
    और मैं....!
    समेट लूँ तुमको
    मूंदकर पलकें....
    .....बहुत सुंदर....

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  20. समर्पण को आतुर 'प्रणय निवेदन'

    उत्तर देंहटाएं