रविवार, 22 अप्रैल 2012

देहरी का दीया .... संध्या शर्मा


मैं...
सुबह सबेरे
द्वार पर
रंगोली सजाती
कभी चाँद सी
रोटियां गढ़ती
कभी बर्तनों से बतियाती
बिता देती हूँ सारा दिन
उलझी रहती हूँ
दिन भर
चौके- चूल्हे में
बिन संवरी 
उलझी लटें लेकर
फिर भी....!
साँझ ढले
जाग उठता है
देहरी का दीया 
मुझे देखकर....!

30 टिप्‍पणियां:

  1. साँझ ढले
    जाग उठता है
    देहरी का दीया
    मुझे देखकर....!

    बहुत सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  2. साँझ ढले
    जाग उठता है
    देहरी का दीया
    मुझे देखकर....!
    वाह ...सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक अनोखा रिश्ता है इस देहरी से .... अनकहे भाव प्रोज्ज्वलित हो उठते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर.......................
    नारीत्व से भरपूर...........

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. साँझ ढले
    जाग उठता है
    देहरी का दीया
    मुझे देखकर....!मन के भावो को शब्द दे दिए आपने......

    उत्तर देंहटाएं
  6. और उतर जाती है ज्योति उनमें मेरे नैनों की....

    उत्तर देंहटाएं
  7. जिंदगी ऐसी ही सोच से आसन और सार्थक होती है संध्या जी

    उत्तर देंहटाएं
  8. देहरी का दिया जो भीतर भी उजाला करता है बाहर भी..बहुत सुंदर भाव संयोजन !

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut sundar...is dehri ke diye sa hi to hai nari ka jeevan ...jo nirantar jalkar prakash failati rahti hai

    उत्तर देंहटाएं
  10. साँझ ढले
    जाग उठता है
    देहरी का दीया

    अगर जीवन की साँझ में भी यह प्रकाश रुपी दीया जल गया तो भी जीवन की सार्थकता बनी रहेगी ....विचारणीय पोस्ट ...!

    उत्तर देंहटाएं
  11. दीया का गुण तेल है राखै मोटी बात
    दीया करता चाणना, दिया चालै साथ

    सुंदर भाव……… बाहर भीतर आलोक ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. शायद इसीलिए नारी सम्पूर्ण है ... रोज की कविता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. ओहो.. अति सुन्दर ..हार्दिक बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी कविता के हर शब्द प्रशंसा के पात्र हैं ।धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. देह का दिया भी जल उठता है तेरी आँखों की चमक देख |

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाकई ...गुणों की ही पूजा होती है ...कितने सहज सरल शब्दों में आपने बता दिया ....! बहुत सुन्दर संध्याजी ...!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह! बहुत दिनो बाद इतनी अच्छी कविता पढ़ने को मिली ब्लॉग में। अहोभाग्य और बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस कविता ने इतना प्रभावित किया कि और भी कविताएं पढ़ीं। आपकी छंदबद्ध कविताओं की तुलना में अतुकांत छोटी कविताएं अधिक प्रभावित करती हैं। एक कविता राजनैतिक रंग लिये हुए उपदेशात्मक है। वह अधिक अच्छी नहीं लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  19. साँझ ढले
    जाग उठता है
    देहरी का दीया
    मुझे देखकर.
    ........ सुंदर कविता।

    उत्तर देंहटाएं