शनिवार, 24 दिसंबर 2011

मंद मन मृदंग आघात करो... संध्या शर्मा

                                 
                                  चलो तुम कुछ शुरुआत करो
                                  जहां तक बने कुछ बात करो
                                  बहुत हो चुकी जहां की बातें
                                  अब अपने मन की बात करो

                                                       चलो तुम कुछ शुरुआत करो
                                                       जहाँ तक बने कुछ बात करो

                                  यूं ही न तुम सांझ से ढलो
                                  यूँ ही न तुम पपीहे से जलो
                                  इस दुनिया का अंत जहाँ है
                                  तुम उस दूरी तक साथ चलो
                                                       
                                                        चलो तुम कुछ शुरुआत करो
                                                        जहां तक बने कुछ बात करो

                                  यूं ही मुहब्बत इफ़रात करो
                                  कुछ सितारों की बारात करो
                                  बसंत तो आने को है सखे
                                  कुछ फ़ूलों की बरसात करो

                                                        चलो तुम कुछ शुरुआत करो
                                                        जहां तक बने कुछ बात करो

                                  लाल पीले सपनीले सुनहले
                                  जमके रंगो की बरसात करो
                                  जीवन बीते पलक छांव में
                                  मंद मन मृदंग आघात करो
                                  चलो तुम कुछ शुरुआत करो

                                                       चलो तुम कुछ शुरुआत करो
                                                       जहां तक बने कुछ बात करो

32 टिप्‍पणियां:

  1. यूं ही मुहब्बत इफ़रात करो
    कुछ सितारों की बारात करो
    बसंत तो आने को है सखे
    कुछ फ़ूलों की बरसात करो

    सुन्दर आवाहन , सुकोमल अहसास

    उत्तर देंहटाएं
  2. चलो तुम कुछ शुरुआत करो
    जहां तक बने कुछ बात करो....बहुत ही खुबसूरत और कोमल भावो की अभिवयक्ति......

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर रचना।
    गहरी अभिव्‍यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बात शुरू करने के लिए खूबसूरत आग्रह।
    सुंदर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मृदंग समान मन पर आघात ..तो कुछ नहीं बहुत बातें होने लगती है ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. "चलो तुम कुछ शुरुआत करो
    जहां तक बने कुछ बात करो
    बहुत हो चुकी जहां की बातें
    अब अपने मन की बात करो "

    बहुत ही सुन्दर रचना
    हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    मालीगांव

    उत्तर देंहटाएं
  7. @इस दुनिया का अंत जहाँ है तुम उस दूरी तक साथ चलो


    सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  8. यूं ही न तुम सांझ से ढलो
    यूँ ही न तुम पपीहे से जलो
    इस दुनिया का अंत जहाँ है
    तुम उस दूरी तक साथ चलो

    ...बहुत सुंदर भावाभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  9. यूं ही मुहब्बत इफ़रात करो
    कुछ सितारों की बारात करो
    बसंत तो आने को है सखे
    कुछ फ़ूलों की बरसात करो

    बेहद सुन्दरता से भावों को अभिव्यक्ति दी है आपने ......!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 29 -12 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज... जल कर ढहना कहाँ रुका है ?

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह वाह....
    बहुत सुन्दर गीत...
    एकदम लयबद्ध ...
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर गीत ..क्या बात है

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत हो चुकी जहां की बातें
    अब अपने मन की बात करो

    बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  14. लाल पीले सपनीले सुनहले
    जमके रंगो की बरसात करो
    जीवन बीते पलक छांव में
    मंद मन मृदंग आघात करो.

    सुंदर भाव समेटे सपनीली रचना, वाह !!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत खूबसूरत भाव की बरसात कर दी है !
    नव वर्ष की बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुंदर प्रस्तुती बेहतरीन अहसासों भरी रचना,.....
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाए..

    नई पोस्ट --"काव्यान्जलि"--"नये साल की खुशी मनाएं"--click करे...

    उत्तर देंहटाएं
  17. सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है

    .....नववर्ष आप के लिए मंगलमय हो

    शुभकामनओं के साथ
    संजय भास्कर

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर रचना , सादर .

    नूतन वर्ष की मंगल कामनाओं के साथ मेरे ब्लॉग "meri kavitayen " पर आप सस्नेह/ सादर आमंत्रित हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  19. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  20. नव-वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें। रचना अत्यंत मार्मिक एवम भाव-पू्र्ण। पुन: बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुन्दर संगीतमय सी रचना.
    पढकर मधुर तान सुनाई पढ़ रही है.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार जी.

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत ही शानदार रचना।
    http://ourayurvedicmedicine.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं