शुक्रवार, 9 दिसंबर 2011

अल्हड़ बादल.... संध्या शर्मा

कभी कविता मिल जाती थी
विद्यार्थियों के अल्हड चेहरे पर
कोतुहल भरे भाव दिखते थे
नन्ही सी सुन्दर आँखों में
अब ना चेहरे पर पहचान है
ना ही आँखों में हैं भाव
सिर्फ बढ़ते ही जा रहे हैं
ऊंचाई में, आयु में
सिर्फ शरीर से
खोखली संवेदना लिए
कविता से दूर
परीक्षा में अंको के लिए
याद कर लेते है उसे
सिर्फ शब्दों की तरह
अब कोई कविता उन्हें
हँसाती नहीं
न ही भाव रुलाते हैं
"ओ हरे मन की कोमल कलियों
तुम कविता के फूल खिलाओ
सपनो की तितली बन जाओ
उजड़ा बाग़ महकाओ
बादलों की पतंग उडाओ
तारों की नदिया लहराओ
हवाओं के काँधे पर चढ़कर
सारी दुनिया घूम कर आओ
कविता गाओ, गीत बनाओ.... :)"

   

31 टिप्‍पणियां:

  1. वर्तमान युग में संवेदनाएं तिरोहित हो रही हैं,
    अल्हड़ता जीने की आपा-धापी में खो रही है।
    अपने कलेजे पर पत्थर सा ढोता है आदमी,
    अब बहारें भी फ़ूल नहीं, कांटे ही बो रही हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हवाओं के काँधे पर चढ़कर
    सारी दुनिया घूम कर आओ
    कविता गाओ, गीत बनाओ.... :)

    कविता बहुत ही बेहतरीन है.....संध्या जी

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सटीक विषय पर एक सार्थक पोस्ट है आपकी |

    उत्तर देंहटाएं
  4. खोखली संवेदना लिए कैसे गीत गायेंगे ..सोचे जा रही हूँ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. कोमल संवेदनाओं से रची रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. सारी घूम कर आओ,कविता गाओ गीत बनाओ
    बहुत सुंदर संवेदन सील रचना,...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति |
    बधाई स्वीकारें ||

    उत्तर देंहटाएं
  8. बिलकुल सही कह रही हैं आप. सुंदर सन्देश देती खूबसूरत रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  9. संवेदना की सोच सदा कायम रहे ..... यह सब तभी मुमकिन है...... बहुत उम्दा रचना

    उत्तर देंहटाएं
  10. व्‍यहारिकता खोते जा रही है....
    लोग आभासी हो रहे हैं....
    प्रेक्टिकल कुछ नहीं सब थ्‍यौरी पर चल रहा है.... जीवन में ऐसा ही हो रहा है....
    सार्थक संदेश देती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  12. ओ हरे मन की कोमल कलियों
    तुम कविता के फूल खिलाओ
    सपनो की तितली बन जाओ
    उजड़ा बाग़ महकाओ.बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।
    मेरा शौक
    मेरे पोस्ट में आपका इंतजार है
    आज रिश्ता सब का पैसे से

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सही भाव ..
    अच्‍छी अभिव्‍यक्ति !!

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी बात से पूरी तरह से सहमत |
    सुन्दर रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस पोस्ट के लिए धन्यवाद । मरे नए पोस्ट :साहिर लुधियानवी" पर आपका इंतजार रहेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. ्वाह संध्या जी कोमल भावो की सुन्दर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत अच्छी और भाव पूर्ण रचना |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं