सोमवार, 12 दिसंबर 2011

मौन के शब्द... संध्या शर्मा


तारों में हँसती
फूलों सी खिलती
आज भी इस मन में
बसती है तू
मिट्टी की खुश्बू
अब भी तुझे लुभाती है
पहिली बारिश में
अब भी भीगती है तू
अब भी संग मेरे
धूप में चलती है
आँचल की शीतल छाँव
अब भी करती है तू
मेरी अंखियों के झरोखों से
अब भी झांकती है तू
अब भी मन की देहरी पर
दीप जलाती है तू
बोलती सी आँखें तेरी
हरपल बतियाती हैं मुझसे
फिर भी दुनिया कहती है
मौन हूँ मैं
और मौन है तू....

 

34 टिप्‍पणियां:

  1. पर तू तो मेरे साथ है , मुझीमें लीन - बहुत ही बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  2. संध्या जी,..अच्छी रचना सुंदर पोस्ट,...बधाई
    मेरी नई रचना..
    नेताओं की पूजा क्यों, क्या ये पूजा लायक है
    देश बेच रहे सरे आम, ये ऐसे खल नायक है,
    इनके करनी की भरनी, जनता को सहना होगा
    इनके खोदे हर गड्ढे को,जनता को भरना होगा,

    उत्तर देंहटाएं
  3. खुबसूरत अल्फाजों में पिरोये जज़्बात....शानदार |

    उत्तर देंहटाएं
  4. जब एक ही हैं तो शब्दों की क्या आवश्यकता ...... बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  5. भावों को खूबसूरती से उकेरा है ... बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूबसूरती से पिरोया है भावों को ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह! बहुत खूबसूरत भावपूर्ण प्रस्तुति है आपकी.
    मौन के शब्द दिल में गुंजन कर रहे है जी.


    मेरे ब्लॉग पर आयीं आप और सुन्दर भावपूर्ण टिपण्णी भी की
    आपने,इसके लिए मैं दिल से आभारी हूँ आपका.

    उत्तर देंहटाएं
  8. मौन और मुखरता के प्रतिमान भिन्न हैं... जिस वार्ता की बात कविता कर रही है... उसे सुनने समझने के लिए एक अलग शक्ति चाहिए जो प्रायः नहीं मिलती... इसीलिए सुन्दर वार्तालाप से अनजान लोग मौन समझ लेते हैं शब्दों को...!
    सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर शब्दों से सुसज्जित लाजवाब रचना लिखा है आपने !बधाई!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये मौन कुछ ऐसा ही होता है , बहुत ही प्यारी लगी संध्या जी , आपकी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बोलती सी आँखें तेरी
    हरपल बतियाती हैं मुझसे
    फिर भी दुनिया कहती है
    मौन हूँ मैं
    और मौन है तू....

    ....सच में मौन की एक अलग ही भाषा होती है...बहुत सुंदर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  13. मेरी अंखियों के झरोखों से
    अब भी झांकती है तू
    अब भी मन की देहरी पर
    दीप जलाती है तू

    मौन के ये शब्द बहुत ही अच्छे लगे।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  14. अति सुन्दर |
    शुभकामनाएं ||

    dcgpthravikar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  15. मौन की भाषा अमर होती है
    शब्दों में शीरीं द्खल होती है
    उनसे मिलने की हसरत लिए
    यूँ ही रोज शामो शहर होती है

    सुंदर कविता के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दरता से एहसास लिखीं है आपने ...!

    उत्तर देंहटाएं
  17. जहाँ शब्दों की सीमा समाप्त होती है वहीँ से मौन की भाषा शुरू होती है !
    बहुत ही सुन्दर कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुंदर भाव की सुंदर रचना .............

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.....मन को छू गई.....

    उत्तर देंहटाएं
  20. ये मौन भी बहुत कुछ कह जाता ही ... गहरे एहसास को बयान कर जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. गहन संवेदनशील...बहुत सुंदर अल्फाज़ ..
    बहुत बहुत आभार.....संध्या जी

    उत्तर देंहटाएं
  22. अकेलेपन का विश्वसनीय याथी है मौन।
    बहुत सुंदर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  23. अकेलेपन का विश्वसनीय साथी है मौन।
    बहुत सुंदर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  24. ▬● संध्या जी , आपकी लिखी रचना पहली बार देखी... पसंद आया आपका कहने का अंदाज...
    मौन हूँ मैं
    और मौन है तू.... ( बहुत खूब )

    ठीक लगे तो यहाँ आकर भी देखिये :
    Meri Lekhani, Mere Vichar..
    Gaane Anjaane.. (Bhoole Din, Bisri Yaaden..)
    .

    उत्तर देंहटाएं
  25. कल 11/05/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत ही सुन्दर और बेहतरीन रचना....

    उत्तर देंहटाएं