गुरुवार, 24 जनवरी 2013

बेटाडीन मांगता अश्वत्थामा...संध्या शर्मा



दुखों से प्यार है, मुझे 
यही कहा था ना तुमने 
और मुझे... 
तुम पर फक्र है
जख्म को सहेजा
वेदनाओं की सीमा से परे 
बगैर पैरासिटामाल के
आंसुओं के समन्दर को 
अपनी आँखों में जगह दी
कितने तूफ़ान उठे 
पर छलकने ना दिया 
कवि ही पढ़ सकता है
आँखों में छिपी वेदना
कैसे समझेगा भला
तुम्हारे माथे के घाव को
कुमकुम का टीका
समझने वाला 
अपने रिसते जख्मों पर
चन्दन का लेप करने वाला
देखो...वह अश्वत्थामा
भटकर रहा है अनवरत
अपने  जख्मों के लिए
बेटाडीन मांगते द्वार-द्वार....
तुम भूलकर भी 
द्वार बंद मत करना 
ना ही उसे इंकार करना
क्योंकि... वह एक बेटाडीन ही है 
जो उसके जख्म भरेगा 
वही तुम्हारे लिए भी लाभकारी होगा ...

14 टिप्‍पणियां:

  1. क्योंकि... वह एक बेटाडीन ही है
    जो उसके जख्म भरेगा ,,,,,सुंदर अभिव्यक्ति ,,,,

    recent post: गुलामी का असर,,,

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीया दीदी बहुत ही सुन्दर रूप दिखाया है आपने इस रचना हार्दिक बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. दर्द के फूल भी खिलते हैं,बिखर जातें हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब..एक चिकित्सकीय रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  6. कोई कैसे समझेगा इस दर्द को ? दर्द तो दर्द ही देकर समझाता है ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (26-1-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  8. Bdhai ...sundar Rachna ke liye
    http://ehsaasmere.blogspot.in/2013/01/blog-post_26.html

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 30/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. नये पुराने के अनूठे संगम के साथ उत्कृष्ट प्रस्तुति ! गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह....
    बेहतरीन रचना......

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं