शनिवार, 12 जनवरी 2013

रोक सकोगे???... संध्या शर्मा

मेरे भीतर
आक्रोश की
उफनती
लहराती
फुंफकारती
धधकती
विकराल 
नदी है
रोक सकोगे???
सुना है
तुम...
समंदर हो

31 टिप्‍पणियां:

  1. वायु से तेज जिसकी गति हो, कौन रोक सकता है उसे ....

    बहुत ही सुन्दर भाव ....सचमुच कितनी भी उफनती नदी

    हो समंदर में समा जाना है उसे .....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. गहन भावों का सम्प्रेषण ......! ललित जी ने कवितायें मस्त अंदाज में प्रस्तुत प्रस्तुत की हैं .....! मजा आ गया ....ऐसे प्रयास होने चाहिए ...!

    उत्तर देंहटाएं
  3. लोहड़ी और मकर संक्रांति की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    दिनांक 14/01/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ आक्रोश समुद्र में भी हलचल मचा देते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  5. गहन भाव. आक्रोश बहुत सशक्त हो सकता है.

    लोहड़ी, मकर संक्रांति और माघ बिहू की शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आत्मसात तो शायद फिर भी कर ले ... रोकना उसके बस में भी नहीं ...
    गहरे भाव लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. कम से कम शब्दों में बहुत कुछ लिख दिया गया। नाइस संध्या।

    उत्तर देंहटाएं
  8. भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....

    उत्तर देंहटाएं
  9. kya bat hain
    chand lafzo mein bahut kuch kah diya aapane
    check my blog
    http://drivingwithpen.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर भाव,,,,
    समन्दर में भी कभी सुनामी आ जाती है,,,

    recent post : जन-जन का सहयोग चाहिए...

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह , कुछ शब्दो मे कितना कुछ कह दिया ।
    बहुत खूबसूरत। मकर सक्रांति की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  12. किसी के रोके न रुकेगा ये सैलाब अब ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह.....
    समंदर की क्या औकात !!!

    बहुत बढ़िया
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  14. समंदर को भी उफ़न जाने दो..

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ . सुंदर प्रस्तुति
    वाह .बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  16. wahhh...Bahut khoobsurat Pnaktiya...
    http://ehsaasmere.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह ... बहुत खूब कहा आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. कुछ आक्रोश संवेदनशील पंक्तियाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत खूब,,,,
    जब आक्रोश चरम पर हो तो रोक पान नामुमकिन है ,,,,
    सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  20. YAKINAN ROK SAKENGE YADI WO MEETHE PAANI KA SAMUNDAR HO TO ANYATHA ....

    उत्तर देंहटाएं