सोमवार, 26 सितंबर 2011

क्रांति नहीं आई... संध्या शर्मा

 
बहुत शोर हो रहा था
क्रांति आ रही है... क्रांति आ रही है...?
वह सो रहा था
उठकर बैठ गया
खड़े होने की जरुरत ही नहीं पड़ी
क्योंकि क्रांति आई ही नहीं
तभी उस शोर में एक आवाज गूंजी...
क्रांति इस देश में कभी नहीं आएगी
ऐसा कभी भी नहीं होगा
जहाँ कन्या भ्रूर्ण हत्या होती हैं
वहां क्रांति जन्म कैसे लेगी... ?
और जब जन्म ही नहीं लेगी
तो फिर आएगी कैसे...???

38 टिप्‍पणियां:

  1. सही में आप बहुत ही अच्छा लिखती हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर पोस्ट.........क्रांति के लिए हमे स्वयम उठाना होगा यही तो दुर्भाग्य है इस देश का यहाँ लोग किसी का इंतज़ार कर रहे हैं कोई आएगा और क्रांति ला देगा ऐसा नहीं होने वाला...........हमारे जैसों को ही क्रांति लानी होगी......बहुत पसंद आई पोस्ट|

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक विचारणीय प्रश्न उठाती कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. खड़े होने की जरुरत ही नहीं पड़ी
    क्योंकि क्रांति आई ही नहीं
    अंदर तक उतर गये कविता के शब्द, शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! यदि अधिक से अधिक पाठक आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जहाँ कन्या भ्रूर्ण हत्या होती हैं
    वहां क्रांति जन्म कैसे लेगी... ?
    और जब जन्म ही नहीं लेगी
    तो फिर आएगी कैसे...???

    और फिर तो इस सृष्टि की कल्पना करना भी व्यर्थ होगा।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  7. सही कहा आपने शत प्रतिशत सहमत .....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेटियों के बिना कभी इस देश में क्रांति नहीं आ सकती यह सच है।

    जिस घर बेटी जन्म न लेती, उसका निष्फल हर आयोजन
    सब रिश्ते नीरस हो जाते, अर्थहीन सारे संबोधन
    मिलना-जुलना आना-जाना, यह समाज का ताना बाना
    बिन बेटी कैसे अभिवादन, वंदन वंदन नहीं रहेगा
    आँगन आँगन नहीं रहेगा, आँगन आँगन नहीं रहेगा

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह! बहुत सुन्दर संध्या जी.
    आपके उत्कृष्ट भावों को नमन.

    उत्तर देंहटाएं
  10. जब जन्म ही नहीं लेगी
    तो फिर आएगी कैसे...???
    सोचने को विवश करती रचना.... इसका कोई समाधान भी दिखाई नहीं देता....आने वाला समय सकारात्मक होगा....!

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्रांति के स्रोत पर ही कुठाराघात किया जा रहा है तो वह कैसे आएगी .....मूल को नष्ट करने से क्या क्रांति संभव हो पाएगी ....किसी भी हालत में नहीं ....आपने बहुत सशक्तता से अपने भावों को अभिव्यक्त किया है .....आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  12. सही कहा आपने......
    अच्छी अभिव्यक्ति के लिए बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  13. सही में क्रांति नहीं आई ... बहुत सटीक लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन तरीके से समाज की इस बुराई का चित्रण।
    चिंतन करने योग्‍य विषय।

    उत्तर देंहटाएं
  15. is desh ki kai problems kranti ko aane se rokati hain
    uname se ye ek bahut badi problme hain

    उत्तर देंहटाएं
  16. संक्षिप्त मे यथार्थ का चित्रण…मगर शनै: शनै: परिवर्तन नजर आ रहा है…आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर, सटीक और विचारणीय रचना ! बेहतरीन प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  18. एक बार फिर आपके शब्द कौशल ने मन्त्र मुग्ध कर दिया...नमन है आपकी लेखनी को...अद्भुत

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  19. एक अद्भुत व्यंग्य है... उस देश के लिए जहां भ्रुण हत्या होती है...

    उत्तर देंहटाएं
  20. खड़े होने की जरुरत ही नहीं पड़ी
    क्योंकि क्रांति आई ही नहीं

    ...एक सार्थक प्रश्न उठाती बहुत सशक्त अभिव्यक्ति..बहुत सटीक व्यंग

    उत्तर देंहटाएं




  21. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपको एवं आपके परिवार को नवरात्रि पर्व की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत ज़रूरी विषय पर आपने क़लम चलाई है.
    आपको भी नवरात्रि की हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  24. karara vyangya.vicharniye lekh ke liye aapko badhai ..............

    उत्तर देंहटाएं
  25. एक सार्थक प्रश्न उठाती बहुत सशक्त अभिव्य|
    नवरात्रि पर्व की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें|

    उत्तर देंहटाएं
  26. संध्या जी सुन्दर भाव खुबसूरत मोड़ रचना मन को छू गयी ..ढेर सारी हार्दिक शुभ कामनाएं .....जय माता दी आप सपरिवार को ढेर सारी शुभ कामनाएं नवरात्रि पर -माँ दुर्गा असीम सुख शांति प्रदान करें
    भ्रमर ५


    क्रांति इस देश में कभी नहीं आएगी
    ऐसा कभी भी नहीं होगा
    जहाँ कन्या भ्रूर्ण हत्या होती हैं
    वहां क्रांति जन्म कैसे लेगी... ?
    और जब जन्म ही नहीं लेगी
    तो फिर आएगी कैसे...???

    उत्तर देंहटाएं
  27. बढ़िया प्रस्तुति ||

    बहुत-बहुत बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  28. सुंदर अभिव्यक्ति भावमयी प्रस्तुति.

    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  29. सटीक,सामयिकएवं मर्मस्पर्शी प्रस्तुति ...
    रचना का दर्द, ह्रदय की गहराई तक उतरने में समर्थ है संध्या जी !

    उत्तर देंहटाएं
  30. दुर्गा पूजा पर आपको ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  31. नासमझ लोगो को समझाने की कोशिश, लगे रहिये, मै भी कोशिश कर रहा हूँ | आप भी कीजिये .......
    ................धन्यवाद् ..........

    उत्तर देंहटाएं
  32. प्रस्तुति अच्छा लगी । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं