शनिवार, 3 सितंबर 2011

वक़्त... संध्या शर्मा





वक़्त के साथ
सब कुछ बदल जाता है
दुनिया, अपने, भावनाएं
और रिश्ते

वक़्त के साथ
बदल जाता है
वर्तमान भविष्य में
और भविष्य बन जाता है भूत

वक़्त के साथ
गुम हो जाते हैं
दुनिया में अपने
अपनों में भावनाएं
और बदल जाते है रिश्ते...

18 टिप्‍पणियां:

  1. वक़्त हममें बदलाव तो करता ही है, पर बदलाव किस दिशा में हो
    यह हमारी चाहत और उस ओर किये गए प्रयत्न पर भी निर्भर करता है.
    वक़्त का अहसास कराती आपकी प्रस्तुति बहुत अच्छी लगी.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेशक अच्छी एवँ भावपूर्ण कविता !!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सबसे बडा वक्‍त ही होता है.....
    बेहतरीन और भावयुक्‍त रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हूँ...तभी कहते हैं की वक्त बड़ा बलवान..... सुंदर पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  5. वक्त ही रिश्तों की सही पहचान करा देता है ...
    सत्य वचन!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. इसी को कहते हैं-वक़्त वक़्त की बात

    उत्तर देंहटाएं
  8. parivartan hi prakiti ka niyam hai...yahi shaswat hai...main aapke blog se jud raha hoon aaur mujhe bhi aas hai aapke apne blog se judne ki...hardik badhayee

    उत्तर देंहटाएं
  9. सघन चिंतन....
    सार्थक अभिव्यक्ति...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सटीक चिंतन ..वक्त के साथ सब कुछ बदलता रहता है ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. वास्तव में वक्त के साथ बहुत कुछ बदल जाता है।
    अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी कविताओं में गहरी अभिव्‍यक्ति है संध्‍या जी, धन्‍यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  13. तभी तो कहा है वक्त बड़ा बलवान ... उसके आए कोई नहीं होता ..

    उत्तर देंहटाएं
  14. वक़्त के साथ
    सब कुछ बदल जाता है
    दुनिया, अपने, भावनाएं
    और रिश्ते
    ......वक्त के साथ बहुत कुछ बदल जाता है। वक्त ही सबको सही पहचान करा देता है

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुंदर और सटीक पंक्तियाँ....शानदार रचना.....संध्‍या जी

    उत्तर देंहटाएं