गुरुवार, 19 जून 2014

पहली फुहार...


आई बरखा
गूँजने लगा
बूंदों का संगीत
भीगने लगा
अलसाया मौसम
पहली फुहार के
स्वागत को आतुर
पंख पसारे
मन मयूर
धुल गई
पत्ती-पत्ती
खिल गई
डाली-डाली
कोरी धरती पर
लिखने वाली है
फिर से हरियाली .....

14 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 21 जून 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर....
    धुली धुली, खिली खिली कविता ..
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. पहली फुहार सी ताज़ी सरस कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  4. खिल गई
    डाली-डाली
    कोरी धरती पर
    लिखने वाली है
    फिर से हरियाली ..
    .....क्या बात है एकदम सटीक चित्र खींचा है दी जबरदस्त.....क्या बात है!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रकृति संग घुल मिल जाती कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बारिश के स्वागत में सुन्दर कविता ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बारिश की पहली फ़ुहार अलसाए झुलसे मन के साथ प्रकृति को भी जीवन देती है। हरियाली प्राणी में नव प्राणों का संचार करती है। कम शब्दों में काफ़ी कुछ कहती है आपकी कविता। आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी रचना ने इन बूंदों में घुलकर तृप्ति पाने की आकांक्षा जगा दी है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत मनभावन प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  10. पहली फुहार के इस आनद को बाखूबी लिखा है ... सुन्दर ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूब , मंगलकामनाएं आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  12. और तन-मन भी हो गया हरा-हरा..

    उत्तर देंहटाएं