रविवार, 17 मार्च 2013

पहचान... संध्या शर्मा

मेरी ही आँखें
मेरे ही अक्स को
घूरती हैं
अनजान की तरह
वो कुछ शब्द
जो यकीं दिलाते
मुझे मेरे होने का
क्यों नहीं बोलती
कितना मुश्किल है
इनकी ख़ामोशी तोडना
तुम कहते हो
आसान है सब
सच कहूँ....
कुछ भी अजीब नहीं लगता
आदत सी हो गई है
कर भी क्या सकती हूँ
फिर भी कोशिश में हूँ
अपनी ही आँखों में
अपनी पहचान ढूंढ़ने की
याद दिला सकूँ
कौन हूँ ??
जानती हूँ
बदल गई हूँ ....

21 टिप्‍पणियां:

  1. .बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति आभार हाय रे .!..मोदी का दिमाग ................... .महिलाओं के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

    उत्तर देंहटाएं
  2. अंतर्द्वंद्व , अपनी पहचान और मनोवैज्ञानिकता सब उभर आया है इस रचना में ....शिल्प भावानुकूल... !!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    दुःख और अनुराग की, होती कथा विचित्र।
    लेकिन हैं हर हाल में , ये दोनों ही मित्र।।
    --
    आपकी पोस्ट का लिंक आज के चर्चा मंच पर भी है!
    सादर सूचनार्थ!
    http://charchamanch.blogspot.in/2013/03/1187.html

    उत्तर देंहटाएं
  4. एकदम सटीक और सार्थक प्रस्तुति आभार

    बहुत सुद्नर आभार अपने अपने अंतर मन भाव को शब्दों में ढाल दिया
    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    एक शाम तो उधार दो

    आप भी मेरे ब्लाग का अनुसरण करे

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सब कुछ बदलने पर भी कुछ है जो नहीं बदलता..सुन्दर शब्द दिया है आपने..

    उत्तर देंहटाएं
  7. कोशिश में हूँ
    अपनी ही आँखों में
    अपनी पहचान ढूंढ़ने की

    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  8. कभी कभी इंसान दूत जाता है ओर खुद को नहीं पहचानना चाहता ... पर जरूरी है साहस लाना ... खुद ही उठना ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. ओह ! मन का ये अंतर्द्वंद ...अपनी ही पहचान खुद में ढूँढना कितना पीड़ादायक है ...बहुत भावपूर्ण रचना ....
    एक नजर के इंतज़ार में ...स्याही के बूटे ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. अपनी आंखे अपने अक्स को घुरना आत्मा का परीक्षण करने जैसा है और ऐसा हर एक को होना चाहिए।
    drvtshinde.biogspot.com

    उत्तर देंहटाएं