बुधवार, 7 नवंबर 2012

मेरे कालिदास...संध्या शर्मा

हर बार..........
जब भी कुछ लिखने बैठती हूँ
बहुत कोशिश करती हूँ
तुमको ना लिखूं
फिर भी आ ही जाते हो
तुम कहीं ना कहीं से
तुम्हारे आते ही
छाने लगते है
भावों के मेघ
बरसने लगती हैं,
सुन्दर शीतल
शब्दों की बूँदें
धीरे से इनमे समाकर
दे जाते हो मेरे सूखे शब्दों को
हरियाला सावन 
मेरे जीवन के  मेघदूत
मेरे कालिदास...

31 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद उम्दा बेहतरीन रचना
    भावों के मेघ
    बरसने लगती हैं,
    सुन्दर शीतल
    शब्दों की बूँदें
    धीरे से इनमे समाकर
    दे जाते हो मेरे सूखे शब्दों को
    हरियाला सावन
    मेरे जीवन के मेधदूत
    मेरे कालिदास...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर और सहज अभिव्यक्ति...
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. खुबसूरत भाव और प्यारे से
    अहसास लिए बहुत ही प्यारी रचना.....
    मनभावन....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  4. खुबसूरत भाव और प्यारे से
    अहसास लिए बहुत ही प्यारी रचना.....
    मनभावन....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  5. सरल शब्दों में सुंदर अभिव्यक्ति के लिये सस्नेह दिल से बधाई,,,,संध्या जी,,,

    RECENT POST:..........सागर

    उत्तर देंहटाएं
  6. विद्या की अधिष्ठात्री

    माँ वीणा पाणि

    स्वयं समाई हुई रहती हैं

    रचनाकारों के मन मंदिर में

    मन के भाव प्रकट होते हैं

    कविता के रूप में, अमर है

    कविता का पर्याय बन

    कवि कालिदास ....

    बन जाएँ जब जीवन के

    मेघदूत ...क्यों न बने भावों

    के मेघ! संध्याजी आपकी

    सुन्दर रचना, जिनकी पंक्तियाँ

    ...."छाने लगते है
    भावों के मेघ
    बरसने लगती हैं,
    सुन्दर शीतल
    शब्दों की बूँदें .."

    हैं इसका साक्ष्य

    बहुत ही खूबसूरत रचना ....

    बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  7. यक्ष संदेश सुप्रिया तक
    मेघदूत ले जाता साथ
    झूम झूमके छाता मेघ
    हर्षित होवत कालीदास

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेघदूत..कालीदास..वाह! इन शब्दों में गज़ब का चमत्कार है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतरीन भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर शीतल अहसास भरती शब्दों की बूँदें..

    उत्तर देंहटाएं
  11. विचारों के मेघों को बड़ी ख़ूबसूरती से परिभाषित किया

    उत्तर देंहटाएं
  12. कितनी सरलता से बोल गयी आपकी कलम.... अपना स्त्रोत...:) ~बहुत सुंदर !
    ~सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह बेहद खूबसूरत अहसास ........लेखनी पर भरी पड़ते दिल के ये अहसास :)))

    उत्तर देंहटाएं
  14. दे जाते हो मेरे सूखे शब्दों को
    हरियाला सावन
    मेरे जीवन के मेधदूत
    मेरे कालिदास...

    खूबसूरत अहसास

    उत्तर देंहटाएं
  15. खूबसूरती से लिखे एहसास .... सुंदर भाव संयोजन .... मेधदूत को मेघदूत कर लें ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुंदर भाव... http://www.kuldeepkikavita.blogspot.com पर आना।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत अद्भुत अहसास...सुन्दर प्रस्तुति बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  19. जी हां ऐसा ही कुछ होता है.

    बेहतरीन रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  20. मेरे जीवन के मेघदूत, मेरे कालिदास ।

    वाह ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. अभिव्यक्ति का यह अंदाज निराला है आनंद आया पढ़कर.... अद्भुत अहसास

    उत्तर देंहटाएं