मंगलवार, 1 नवंबर 2011

बंद मुट्ठी.... संध्या शर्मा

बंद मुट्ठी में लिए बैठा है,
सपने, अपने और
और पीपल की घनी छाँव
नहीं समझे ना...
समझ भी नहीं सकोगे कभी
तुम्ही तो छोड़ आये थे
बेच आये थे उसे
अपनी सोने सी धरती
मिट्टी के मोल
नहीं तोड़ सका
नाता जीवन भर का
ना ही उसे भुला पाया
इसलिए अपना सब कुछ
मुट्ठी में समेट लाया....!

37 टिप्‍पणियां:

  1. अपनी सोने सी धरती
    मिट्टी के मोल
    नहीं तोड़ सका
    नाता जीवन भर का
    ना ही उसे भुला पाया

    इस नाते को भुलाना मुमकिन नहीं है।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ...बहुत बढि़या

    कल 02/11/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है।

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी कविता , प्रसंसनीय बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. गूढ़ अर्थ लिए छठ की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर भावों से भरी पोस्ट.......पसंद आई|
    फुर्सत मिले तो हमारे ब्लॉग 'जज़्बात' पर भी नज़र डालें |

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर और गहन भाव लिए हुए अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. नहीं तोड़ सका
    नाता जीवन भर का
    ना ही उसे भुला पाया
    इसलिए अपना सब कुछ
    मुट्ठी में समेट लाया....!

    बहुत खूब...गहन भावों की बहुत ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूब... भावों की बहुत ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति.. ..........बहुत ही सधे हुए शब्दों में आपने रचना को लिखा है .


    http/sapne-shashi.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावों की बहुत ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति...बहुत बढि़या

    उत्तर देंहटाएं
  10. सब कुछ मुट्ठी में समेट लाया...सुंदर भावों और शब्दों से सजी खुबशुरत रचना,बेहतरीन पोस्ट....

    उत्तर देंहटाएं
  11. शानदार. वो रिश्ते ही क्या जो टूट जाये.

    उत्तर देंहटाएं
  12. जीवन में यही रिश्ता सबसे गहरा लगता है ..... सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. गहन भावो को खूबसूरती से उकेरा है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. नहीं तोड़ सका
    नाता जीवन भर का
    ना ही उसे भुला पाया
    इसलिए अपना सब कुछ
    मुट्ठी में समेट लाया....!

    mitti ki mahak bhari sundar rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  15. मिट्टी से रिश्ता तोडा नहीं जाता ... न ही भुलाया जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. बिम्बों और प्रतीकों का खूबसूरती से प्रयोग किया है आपने......गहन भावों की अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  17. गहन भावों की अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  18. मिट्टी का रिस्ता तो मन में पैठ बनाकर रहता है, उसे कैसे् तोड़ सकते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  19. bahut gahre bhav liye huye hai ye kavita...
    jai hind jai bharat

    उत्तर देंहटाएं
  20. गूढ़ कहूँ या शब्दश: सत्य..

    उत्तर देंहटाएं





  21. आदरणीया संध्या जी
    सस्नेहाभिवादन !

    बहुत भावपूर्ण कविता के लिए आभार !
    बंद मुट्ठी में लिए बैठा है,
    सपने, अपने और
    और पीपल की घनी छांव


    इस प्रकार की रचनाओं का बहुत विस्तार संभव है …

    अपनी जड़ों , अपनी मिट्टी से हम कभी अलग नहीं हो सकते … इस पीड़ा को अपनी जन्म भूमि से दूर जा बसने वालों में अच्छी तरह महसूस किया जा सकता है …

    # मैंने स्वयं कई बार प्रवासी राजस्थानियों के सामने राजस्थानी में काव्य पाठ करते समय अपनी मातृ भाषा और मातृ भूमि को याद करते हुए कितनों की आंखों में पानी देखा है …

    बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपको देवउठनी के पावन पर्व पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत अच्छी अभिव्यक्ति,भावपरक कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  24. नहीं समझे ना...
    समझ भी नहीं सकोगे कभी
    तुम्ही तो छोड़ आये थे
    बेच आये थे उसे
    अपनी सोने सी धरती.बहुत अच्छी अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  25. गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने! बधाई!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  26. सुन्दर और बार- बार पढ़ा ! समझाने की कोशिश जरी !बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत सुन्दर और बार- बार पढ़ने की जिज्ञासा जाग्रत हो रही है । मेर पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. अपनी मिटटी से कहीं गहरे जुड़े होने का
    अहम् अहसास
    और बहुत खूब अक्क़ासी...
    वाह !!

    उत्तर देंहटाएं