सोमवार, 17 अक्तूबर 2011

इसे कहते हैं वरदान... संध्या शर्मा

एक दिन लक्ष्मी जी के प्रिय उल्लू को  जाने क्या हुआ
रूठे-रूठे से लग रहे थे
लक्ष्मी जी ने पूछा
क्या हुआ क्यों उदास हो ?
आज इतने चुप से क्यों हो ?
इतना सुनना था कि
फूट पड़ा उनका गुस्सा
बोले...
गरुड़, मूषक, सिंह सबकी पूजा होती है
सभी कितने खुशनसीब हैं
मैं भी तो आपका वाहन हूँ
और इतना आज्ञाकारी हूँ
फिर मेरे साथ ये अन्याय क्यों ?
लक्ष्मी जी मुस्कराईं
उन्हें प्यार से समझाते हुए बोलीं
ठीक है उदास क्यों होते हो
साल में एक दिन तुम्हे भी देती हूँ
दीपावली से ठीक ग्यारह दिन पहले का दिन
तुम भी पूजे जाओगे उस दिन
पर बदले में अपने प्रिय को उपहार देने होंगे
उनकी हर बात माननी होगी
उल्लूजी ठहरे आज्ञाकारी
तुरंत मान गए
बहुत खुश हो गए
और देखिये
आज तक पूजे जाते हैं
हर करवा चौथ के दिन....

 

39 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति |
    बधाई स्वीकारें ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी कविता पढ़े एक घंटा हो गया और हंसी है के रुक ही नहीं रही...कमाल का हास्य बोध है इसमें...बधाई स्वीकारें...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  3. ओहो..! मुझे नहीं पता था .. धन्यवाद आपको सुन्दर रचना व सुन्दर जानकारी देने के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी जानकारी देने के लिए.और सुन्दर प्रस्तुति के लिए
    बधाई स्वीकारें .....

    उत्तर देंहटाएं
  5. लाजबाब .....आज तो कमाल कर दिया सभी उल्लू हंस रहे हैं ....क्योँकि सभी आज्ञाकारी हैं ....हा....हा..हा..हा...!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हमारी हँसी उड़ाई जा रही है :):)

    उत्तर देंहटाएं
  7. उनकी हर बात माननी होगी
    उल्लूजी ठहरे आज्ञाकारी
    तुरंत मान गए
    आपकी कलम ..सच कह रही है
    ....अच्छी जानकारी देने के लिए बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच की जी रही है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  9. ha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha haha

    उत्तर देंहटाएं
  10. ha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha haha

    उत्तर देंहटाएं
  11. ha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha haha

    उत्तर देंहटाएं
  12. ha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha haha

    उत्तर देंहटाएं
  13. ha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha hahaha ha ha ha ha ha ha ha ha haha

    उत्तर देंहटाएं
  14. mam hansi badhti hi jaa rahi hai ,
    mera pet bhi bahut dard karne laga.
    bahut hi kamal kaa likha hai ,
    lekin apni biradri thoda gusse me hai..

    maja aa gaya..
    jai hind jai bharat

    उत्तर देंहटाएं
  15. देवी भी खुश कि उल्लु मिल गया
    उल्लु भी खुश कि लक्ष्मी मिल गयी

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत खूब.....
    बढिया पोस्‍ट।
    करवाचौथ पर एसएमएस के रूप में मिला था.. आप ने अलग अंदाज में पेश किया.....

    उत्तर देंहटाएं
  17. ये तो राजफाश कर दिया आपने. वैसे कुछ ख़ूबसूरत उल्लू त्सुकूबा जापान में हैं. निम्न पोस्ट में देखिये: अई अई आ त्सुकू-त्सुकू

    उत्तर देंहटाएं
  18. uttam aur sajjan ji ki hasi me mera sur bhi mil gaya to aapko lag nahi raha hoga mujhe maja aaya ..par aaya ..to aapko lag gaya hoga ki maja aa gaya ....

    उत्तर देंहटाएं
  19. उल्लू के बहाने बेचारे पति नाम के जीव की बुरी गत बने आपने :-)

    उत्तर देंहटाएं
  20. कविता के माध्यम से आपने बहुत ही अच्छी जानकारी दी है! बहुत ही बढ़िया और मज़ेदार लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  21. हा हा ... सच है ये ... निर्मल हास्य ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह ! आज आपने हमारा असली रूप दिखा दिया..लाज़वाब

    उत्तर देंहटाएं
  23. पोस्ट अच्छा लगा । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  24. वाह क्या बात है. जानकारी देने के लिए शुक्रिया. अब जरा ये भी बता दीजिए की उल्लू की पूजा करने वाले को क्या कहेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत खूब संध्या जी.
    देर से पहुंचा लेकिन मज़ा आ गया.

    उत्तर देंहटाएं