शनिवार, 4 मई 2013

जय हिन्द.... संध्या शर्मा

टूट चुका बाँध  
तबाही मची है
सब कुछ बह गया
कब तक सहोगे
अन्याय - अत्याचार
स्वाभिमान पर प्रहार
प्रतीक्षा कैसी??? 


पानी के बुलबुलों के आगे
तुम गंगा की जलधार
क्यों न तोड़ दो???
अपने धैर्य का बाँध
बह जाने दो टूटकर
एक बची-खुची सी
सिंद्धांत विहीन दीवार!!!!

26 टिप्‍पणियां:

  1. "एक बची खुची सी सिद्धांत विहीन दीवार" तोड़ने की उम्दा कोशिश. पढकर अच्छा लगा.

    -अभिजित (Reflections)

    उत्तर देंहटाएं
  2. कब तक सहोगे
    अन्याय - अत्याचार
    स्वाभिमान पर प्रहार
    प्रतीक्षा कैसी???

    बहुत उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति,,,


    RECENT POST: दीदार होता है,

    उत्तर देंहटाएं
  3. तुम गंगा की जलधार
    क्यों न तोड़ दो???
    .......सही बात बेहतरीन शब्द चयन और बहुत ही सशक्त भावाभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  4. अन्याय सहना आखिर कब तक ??! सुंदर प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर अभिव्‍यक्ति ..
    प्रतीक्षा मेंही बीतता जा रहा है समय !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. तुम गंगा की जलधार
    क्यों न तोड़ दो???
    ये सवाल हर मन को झकझोर रहा .... बेहद सार्थक

    उत्तर देंहटाएं
  7. अब धैर्य बांध टूट ही जाना चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक सत्य का समाधान खोजती पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  9. जरुरत है ऐसी ललकार की..

    उत्तर देंहटाएं
  10. अब धैर्य का बाँध टूट रहा है .. सार्थक प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं
  11. कब तक सहोगे
    अन्याय - अत्याचार
    स्वाभिमान पर प्रहार
    प्रतीक्षा कैसी???

    अन्याय का विरोध करने के लिये इन्तेज़ार करने की आवश्यकता नहीं.
    सार्थक सन्देश.

    उत्तर देंहटाएं
  12. वह दिन शीघ्र आएगा संध्या जी ..
    मंगल कामनाएं आपके लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  13. समय देख कर तो लगता है ये धैर्य का बाँध जल्द ही धाराशायी होकर एक नयी पहल की शुरुआत करेगा

    उत्तर देंहटाएं
  14. बस इंतज़ार तो उसी का है ... पता नहीं कब टूटने वाला है ये बाँध ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. जब हर घर से एक शहीद होने के लिए आगे आयेगा जैसे पञ्च प्यारे आगे आया थे.और वो होगा संध्या जी !
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post'वनफूल'

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुन्दर शब्द चयन और रचना |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  17. बदलाव कब होगा ? कोई नहीं जानता ....

    उत्तर देंहटाएं
  18. hook ko lalkaar banne mein deri kaisi...bahut sundar..sandhya ji !

    उत्तर देंहटाएं