मंगलवार, 21 अगस्त 2012

चिरनिद्रा से वापसी...संध्या शर्मा

आज अचानक असमय सो गई 
सोते हुए स्वपन में जाग उठी
उठते ही कविता की कॉपी याद आई
बैचेनी से इधर-उधर ढूँढने लगी 
अचानक पाँव तले पानी महसूस हुआ
इतना पानी देखकर समझ गई
मेरी काव्य सरिता में बाढ़ आई  
देखते - देखते उसमे डूबने लगी
तैरने के लिए कल्पना की डोर बांधी
विचारों का मज़बूत सहारा लिया
शब्दों के पुल खोजने लगी
उन्ही तरंगो में कल्पना की
सुन्दर सजीली नाव दिखी
उमंगों की एक छलांग में
उस नाव पर सवार हो गई
उसी नाव में दिखे डायरी के पन्ने
कुछ पूरे और कुछ अधगीले
कुछ सीधे कुछ मुड़े-तुड़े से
जल्दी -जल्दी उन्हें समेटने लगी
एक पन्ना हाथ से छूटा उड़ने लगा
अधीरता से उसे संभाला थामा
हाथ आया तो पढने का मन किया
जैसे ही उसे खोलकर देखा
आश्चर्य से आँखे खुल गईं
मैं गहरी नींद से जाग गई  
म्रत्यु को साधे जीवन से बांधे  
स्वप्न से बाहर यथार्थ की दुनिया में
मुझे ले आये खींचकर मेरे ही शब्द  
बताऊँ वहां क्या लिखा था?
 "चिरनिद्रा से वापसी"

36 टिप्‍पणियां:

  1. वाह.......
    कल्पनाओं के सागर में गोते लगा कर लौटना सुखद लगा......

    सस्नेह.
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल्पनाओं के सागर में उमंग भरी सुखद अनुभूति,,,,,

    RECENT POST ...: जिला अनूपपुर अपना,,,

    उत्तर देंहटाएं
  3. म्रत्यु को साधे जीवन से बांधे
    स्वप्न से बाहर यथार्थ की दुनिया में
    मुझे ले आये खींचकर मेरे ही शब्द
    बताऊँ वहां क्या लिखा था?
    "चिरनिद्रा से वापसी"

    खुबसुरत एहसास.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह: कल्पना का गहन सागर...सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  5. चिरनिद्रा से वापसी बहुत सुखद अनुभूति है..
    बहुत सुन्दर रचना..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह .. कल्पनाएं भी कहाँ ले जाती हैं इंसान को ...
    इस चिरनिंद्रा से जागना भी पूर्ण होना इक रचना का होता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर स्वप्न..और सुंदर चित्रण !

    उत्तर देंहटाएं
  8. स्वप्न व दिवास्वप्न बेहतरीन ही नहीं अद्भुत खुबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुंदर कविता |कल्पनाशीलता का बेजोड़ नमूना |आभार

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 23-08 -2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में .... मेरी पसंद .

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी पोस्ट आज 23/8/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 980 :चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  13. भावमय करते शब्‍दों का संगम ... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  14. कल्पना में कवि मन कहाँ से कहाँ पहुँच जाता है ...सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

  15. ये स्वप्नशब्द.... निःशब्द !
    बेहतरीन प्रस्तुति !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  16. शब्दै मारा गिर पड़ा शब्दै छोड़ा राज
    जिन जिन शब्द विवेकिया तिनका सरिगौ काज

    जब अवचेतन जागता है तो अनोखे लोक की सैर करता है। अद्भुत अनुभव होता है इस सैर का। गुंगे के गुड़ जैसा। शब्दों में बांध पाना कठिन होता है। शब्द ही चिरनिद्रा से जगाते हैं। शब्द ध्वनि सुनना ही चिरनिद्रा से वापसी है। उम्दा बिंबों के साथ सार्थक भावाभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  17. कल्पना के सागर में डूबते उतराते ही शब्द चुन कर कलम लिख डालती है कोई कविता बहुत सुन्दर लगी आपकी कल्पना और अंतिम पक्तियां तो लाजबाब हैं

    उत्तर देंहटाएं
  18. स्वप्न से बाहर यथार्थ की दुनिया में
    मुझे ले आये खींचकर मेरे ही शब्द
    बताऊँ वहां क्या लिखा था?
    "चिरनिद्रा से वापसी"

    ....बहुत सुन्दर भावमयी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  19. इतनी खूबसूरत कल्पना ....अधूरे ख्याब अधूरे से शब्द ..इस आशा के साथ कि कोई दिन तो होगा जब ये पूर्ण होंगे ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत ही प्रशंसनीय कविता। मेरे ब्लॉग " प्रेम सरोवर" के नवीनतम पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  21. कविता के भाव में गहनता झलक रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  22. काव्य सरिता हमें भी बहा ले गयी..

    उत्तर देंहटाएं