गुरुवार, 23 जून 2011

तेरी राह हूँ मंजिल नहीं......... संध्या शर्मा

तेरी राह हूँ
मंजिल नहीं
कश्ती हूँ
साहिल नहीं
वक़्त की आंधी चलेगी
इस तरह.............!
कश्ती कहीं
और साहिल कहीं
राह कहीं
मंजिल कहीं.............

36 टिप्‍पणियां:

  1. हर शब्‍द बहुत कुछ कहता हुआ, बेहतरीन अभिव्‍यक्ति के लिये बधाई के साथ शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. really, amazing play of words. raah hoon manzil nahi,
    i don't have words to express.
    really really beautiful.

    उत्तर देंहटाएं
  3. तेरी राह हूँ
    मंजिल नहीं
    कश्ती हूँ
    साहिल नहीं

    वकत कि आंधी बड़े बड़ों को उखाड फेकने की क्षमता रखती. चंद शब्दों जीवन का फलसफा पेश किया है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  4. तेरी राह हूँ
    मंजिल नहीं
    राह कहीं न कहीं तो पहुंचा ही देगी ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. मंजिलें मिल ही जाती है, रास्ते भी आसान होंगे हौसला कायम रहना चाहिए . बेहतरीन शब्द रचना बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. NO 10 UPASTHIT HAI MAM. . . .
    WAKT PAR NAHI CHALTA JOR KISIKA, KABHI YE APNA HAI KABI OR KISI KA. . . . . .
    JAI HIND JAI BHARAT

    उत्तर देंहटाएं
  7. गहरे अर्थों से ओत प्रोत रचना ....आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर और लाजवाब रचना लिखा है आपने ! बधाई!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  9. गर्मी को ठंढक में बदलने वाली कविता

    उत्तर देंहटाएं
  10. जरूरी है की साथ बना रहे ... फिर जो भी हो ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. जिंदगी की हकीकत से जब सामना होता है
    , या ये कहें कि वक्‍त के थपेडे पडते हैं तो सारी हकीकत सामने आ जाती है....

    अच्‍छी और भाव भरी रचना।
    शुभकामनाएं आपको

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (25.06.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  13. ek dum sahi kha aapne...wqyt ki aandhi to hamesha se uthti chali aai hai....kasti khi or shahil khi or.....lajabab likhti hai aap.....badhai

    उत्तर देंहटाएं
  14. गागर में सागर भर दिया है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  15. संवेदनाओं से भरी बहुत सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  16. Zindagi safarnama h khwabon ka;
    Na raha kahin na manzil kahin;
    Zo rahon ko manzil bana sako to;
    Kashti yahin aur sahil b yahin.....

    But i liked your lines too...a little pessimistic still it's very much the part of life...

    उत्तर देंहटाएं
  17. well if you find time then do read my latest poem
    http://impactofthoughts.blogspot.com/2011/06/living-with-lies.html

    उत्तर देंहटाएं
  18. वक्त के आगे किसकी चलती है। वक्त तो हमेंशा से बलवान है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. bahut hi badiya likha aapne.. taarif ke liye shabad nahi mil rahe.. :)
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - सम्पूर्ण प्रेम...(Complete Love)
    mera ek or blog www.musiq.tk bhi hai agar aap ko koi aitraaj na ho to mai apne blog ka link exchange karna chahta hun aapke blog se ... thanks

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूबसूरत रचना पर निराशावादी.

    अगर रास्ता खूबसूरत है तो मंजिल की चिंता क्यों करें,
    अगर मंजिल खूबसूरत है तो रास्ते की परवाह क्यों करें.

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत खूब ....शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह संध्या जी ............

    कम शब्दों में जिंदगी की दुश्वारियों का इतना सुन्दर चित्रण ..........अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  23. bahut khoob..
    kam shabdo me bahut kuchh kah diya aapne.
    ap bhi aaeye.... hamara bhi hausla badhaiye

    उत्तर देंहटाएं
  24. कश्‍ती-साहिल, राह-मंजिल सुन्‍दर.

    उत्तर देंहटाएं
  25. waah bahut khub , dil ki gehraiyo se nikli sunder rcahna ke liye badhai

    उत्तर देंहटाएं