मंगलवार, 5 अप्रैल 2011

एक सवाल.......? संध्या शर्मा


सवाल क्यों करते हो
मैं पहेली नहीं हूँ
कलम मेरा हमसफ़र है
अकेली नहीं हूँ...

लोग सवाल पूछते रहे
मैं जवाब देती रही
जब कोई रास्ता न सूझा
तो उन्ही के साथ चलती रही

और.... 
खुद भी एक सवाल में
उलझकर रह गई हूँ
क्या मैं भी....?
अपनी एक अलग राह बना पाऊंगी
इन्हें भी अपने साथ चला पाऊंगी

या फिर ....
यूँ ही कुछ सवाल लिए 
एक अनबूझ पहेली की तरह
एक दिन खुद भी
इस दुनिया से चली जाऊंगी... 

25 टिप्‍पणियां:

  1. इस बेहतरीन रचना के लिए आप बधाई की पात्र हैं...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन की वास्तविकताओं के सन्दर्भ में रची गयी इस रचना के माध्यम से आपने एक अबूझ प्रश्न का हल तलाशने की कोशिश की है ....आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये तो सच है कि इस दुनिया में जो आता है वह जाता भी है.पर उसके
    बोल और कृत्य याद रखे जाते हैं.आपने कविता के माध्यम से सुन्दर भावों की बेहतरीन अभिव्यक्ति की हैं.बहुत आभार इस अभिव्यक्ति के लिए.अनुपम भावों की निर्मल सरिता यूँ ही बहाते रहिएगा.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन लाजवाब।
    सुंदर गीत के लिए आभार!!
    इस चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से हमारा नव संवत्सर शुरू होता है इस नव संवत्सर पर आप सभी को हार्दिक शुभ कामनाएं......

    उत्तर देंहटाएं
  5. गहरी संवेदनाओं की मार्मिक अभिव्यक्ति ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. लाजवाब...प्रशंशा के लिए उपयुक्त कद्दावर शब्द कहीं से मिल गए तो दुबारा आता हूँ...अभी
    मेरी डिक्शनरी के सारे शब्द तो बौने लग रहे हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  8. जीवन की वास्तविकताओं के सन्दर्भ में रची गयी बेहतरीन रचना|

    उत्तर देंहटाएं
  9. कलम मेरा हमसफ़र है
    अकेली नहीं हूँ...
    बेहतरीन..... बहुत ही गहन विचार लिए हैं यह शब्द..... उम्दा कविता के लिए बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  10. कविता के प्रश्न अंतर्द्वंद्वों की प्रतिश्रुति होते हैं.
    कवि कविता के माध्यम से ही उतर खोजता है.

    आपके इन अनबूझ प्रश्नों के उतर भी आपकी कविता जल्द ही दे देगी.
    सलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही अच्छे शबदो का इस्तमाल किया आपन !मेरे ब्लॉग पर आये ! हवे अ गुड डे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    उत्तर देंहटाएं
  12. इंसान के कर्म कभी दुनिया से नहीं जाते हैं | ये नाशवान शरीर रूप बदलता है .......धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  13. उड़ान परों से नहीं हौसले से होती है। और आशा करता हु कि आपको अपने प्रश्नों के जवाब जल्दी से मिले।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन रचना ।
    लेकिन इस सवाल के रुप में क्यों ?

    उत्तर देंहटाएं
  15. व्यक्तित्व का एक सशक्त आधार ही व्यक्ति की पहचान होती है - इस सोच को बखूबी निखारती हुई कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बेहतरीन रचना के लिये बधाई.........

    आकर्षण

    उत्तर देंहटाएं
  17. मन में कई सवाल पैदा करती हुई बेहतरीन रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  18. bahut acchhi rachna.

    ek bar aisi hi ek post maine dali thi...

    आंधियो का भी मुख मोड़ देता है..
    नदियों के भी रास्ते बदल देता है..
    खुदा को भी जो झुका देता है..
    ऐ दोस्त..वो सिर्फ़ इंसान होता है..!!

    iska link apko de rahi hun...pahle me isi nam se likhti thi...padhiyega..

    http://tanhasagar.blogspot.com/2008/09/blog-post_9170.html

    उत्तर देंहटाएं
  19. सवाल क्यों करते हो
    मैं पहेली नहीं हूँ
    कलम मेरा हमसफ़र है
    अकेली नहीं हूँ...
    बहुत ही सशक्त कविता संध्या जी बधाई और शुभकामनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  20. कलम मेरा हमसफ़र है
    अकेली नहीं हूँ...
    बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति,बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  21. खुद भी एक सवाल में
    उलझकर रह गई हूँ
    क्या मैं भी....?
    अपनी एक अलग राह बना पाऊंगी
    इन्हें भी अपने साथ चला पाऊंगी

    आपका लेखन,आपकी विनम्र शैली ख़ुद ब ख़ुद आपकी पहचान बना रही है,संघ्या जी.बस इसे बरक़रार रखियेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  22. खुद भी एक सवाल में
    उलझकर रह गई हूँ
    क्या मैं भी....?
    अपनी एक अलग राह बना पाऊंगी
    इन्हें भी अपने साथ चला पाऊंगी...

    बहुत गहरे अहसास..आज जो अपनी राह बनाने की कोशिश कर रहे हैं, उनके रास्ते में आने वाली उलझनों का बहुत मर्मस्पर्शी चित्रण. बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  23. क़लम मेरा हमसफ़र है
    अकेली नहीं हूँ ...
    शब्द ,
    कविता को गरिमामय होने का
    गौरव दे रहे हैं ... !!

    उत्तर देंहटाएं
  24. Klam meri humsafar. , . . . . . . . Bahut pyaari rachna. . . . . . Jai hind jai bharat

    उत्तर देंहटाएं