गुरुवार, 6 जनवरी 2011

MUJHKO MANN CHAHIYE

मुझको मन चाहिए 
जिसमे नफरत न हो 
मुझे ऐसा मन चाहिए
जहाँ शांति बसे
ऐसा वतन चाहिए
जहाँ फूलों पर न काँटों का घेरा हो 
ऐसा चमन चाहिए
जिसमे पतझड़ न हो 
एक ऐसा मधूबन चाहिए
प्यार की खुशबू से  महके 
ऐसी पवन चाहिए
इस दुनिया में जहाँ सबको धन चाहिए
मुझको तो बस एक सुंदर सा मन चाहिए
मुझको मन चाहिए ..........

19 टिप्‍पणियां:

  1. अपने मनोभावों को बहुत सुन्दर शब्द दिये हैं।बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी रचना वाकई तारीफ के काबिल है ........संध्या जी

    उत्तर देंहटाएं
  3. संजय जी, इतनी अच्छी और खूबसूरत प्रशंसा के लिए आपका बहुत - बहुत शुक्रिया,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर रचना
    इस बार मेरे ब्लॉग पर
    " मैं "

    उत्तर देंहटाएं
  5. फ़ूल और कांटे दोनो जीवन की सच्चाई है

    उत्तर देंहटाएं
  6. @ Dipti Sharmaji
    @ Rajeshji(Muskan)
    @ Arun Sathiji
    Aap sabhi ko in khoobsoorat comments ke liye dhanywad.... Aap sabhi ka blog par swagat hai...

    उत्तर देंहटाएं
  7. मुझको तो बस एक सुंदर सा मन चाहिए
    मुझको मन चाहिए ..........
    bahut achchi lagi.

    उत्तर देंहटाएं
  8. संध्या जी,
    बहुत ही कोमल और सुन्दर भावनाओं को आपने अपनी लेखनी से उकेरा है !
    मेरी ढेरों शुभकामनाएँ !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस दुनिया में जहाँ सबको धन चाहिए
    मुझको तो बस एक सुंदर सा मन चाहिए
    सुन्दर बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  10. जय श्री कृष्ण...आप बहुत अच्छा लिखतें हैं...वाकई.... आशा हैं आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा....!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपको और आपके परिवार को मकर संक्रांति के पर्व की ढेरों शुभकामनाएँ !"

    उत्तर देंहटाएं
  12. sandhya jii

    apki man chahiye, naya saal aur khoobsoorti teeno rachnaye padhi......waakai bahut sunder likhti hain aap.........

    उत्तर देंहटाएं
  13. आप सब को भी मकर संक्रांति, लोहरी एवं पोंगल की हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  14. Mradulaji, Gyanchandji, Vandanaji, Dimpleji, Sanjay Bhaskarji, Devendra Sharmaji aap sabhi ne meri rachna ko itna saraha aur pyar diya iske liye main aap sabhi ki bahut - bahut aabhari hun, Aise hi meri housla afjai karte rahiyega.. Dhanywad.

    उत्तर देंहटाएं
  15. जिसमे नफरत न हो
    मुझे ऐसा मन चाहिए
    xxxxxxxxxxxxxxxxx
    इस दुनिया में जहाँ सबको धन चाहिए
    मुझको तो बस एक सुंदर सा मन चाहिए
    कविता बहुत अच्छी लगी बहुत भावपूर्ण है
    आपने जो कामना की है दुनिया में अगर ऐसा किसी के साथ हो जाता है तो ..उसे उससे बढ़कर क्या चाहिए ...पर कल्पना बहुत सुंदर है ....शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  16. maine kahaa....shaayad aapke paas aisaa man pahle se hi hai....varnaa aisa likhti kaise....acchha likhaa hai aapne,,,

    उत्तर देंहटाएं
  17. केवल राम जी आपका ब्लॉग पर बहुत - बहुत स्वागत है......आपकी इतनी सुंदर सी प्रतिक्रिया के लिए आभार..यूँ ही अपना मार्गदर्शन देते रहिये ताकि और भी प्रगति कर सकूँ ..
    राजीव जी आपने तो सच में मुझे पहचान दे दी है ,मुझे अब ऐसा लगता है, हर किसी के पास न सही पर बहुत से मन है ऐसे..शुक्रिया.. आप सब को भी मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं