बुधवार, 14 जनवरी 2015

संक्रांति - सिन्दूर सहेजती माँ ...

संक्रांति के एक दिन पहले
खूब सारा दूध कंडे की आग में
गुलाबी गाढ़ा होने तक पकाती,
फिर मिट्टी के बर्तन में उसी दूध से
मलाईदार दही जमाती थी माँ
संक्राति के दिन सबको
चूड़े (पोहे), गुड के साथ खिलाती
तब ना जाने क्यों मुझे
खाना अच्छा नही लगता था
शायद खूब सारा देखकर
अघा जाते होंगे हम
और लड्डुओं की तो ना ही पूछो    
सफ़ेद तिल, काली तिल, मूंगफली
मुरमुरे, आटे में बेसन के सेव डालकर
और जाने कितने तरह के बनाती
चूड़ी, बिंदिया, महावर, बिछुए
सुहागिनों को उपहार देती
कोई भी कमी ना रखती
किसी भी बात में
ऊपर से कोई रोक - टोक न करती
खिलाना हो या लेना - देना
इतनी खुले मन और विचारों वाली माँ
एक जगह बड़ी कंजूसी करती
थोड़ा सा सिन्दूर और दो-दो चूड़ियाँ
बस यही सिंगार थे उसके
एक दिन पूछ बैठी मैं कारण
तो समझाते हुए बोली
"देख! सिन्दूर सहेजती हूँ मैं
थोड़ा-थोड़ा सा खर्च करती हूँ
ताकि अपनी पूरी उम्र पा सकूँ
यही सीख मुझे मेरी माँ से मिली
और मैं तुझे दे रही हूँ "
सचमुच सर्दी की गुनगुनी सी धूप सी माँ
अपने घर परिवार आँगन को सजाकर
सिंदूरी चूनर ओढ़े साँझ की तरह
लाल बिंदिया माथे पर सजाए
संतोष भरी मुस्कान के साथ
चली तो गई दूर हमसे
लेकिन १५ वर्ष होने को हैं
आज भी सहेजे हुए है
हम सबके लिए अपने सुहाग को
और साथ है हमारे पापा के रूप में ....

उत्तरायण का सूर्य आप सभी के जीवन में नव ऊर्जा एवं उल्लास भर दे।  आप सभी को मकर संक्रांति, खिचड़ी, बिहू, पोंगल व लोहड़ी की बधाई...

12 टिप्‍पणियां:

  1. bahut badhiya .....bachpan yaad aaya aur nayan bhar aaye ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 15-01-2015 को चर्चा मंच पर दोगलापन सबसे बुरा है ( चर्चा - 1859 ) में दिया गया है ।
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर सामयिक प्रस्तुति ..
    आपको भी मकर सक्रांति की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  4. UMDA .... YAADO KE JHAROKHE SE BHARTIY SANSKAAR OR MAANYTAYO KI SARTHAKTA KO SUNDRA ROOP ME PRASTUT KIYA AAPNE MAKAR SANKRANTI KI HAARDIK BADHAYI :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर ।
    मकर संक्रान्ति की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. माँ एक आशीर्वाद के रूप में सदा साथ रहती है... सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  7. संक्रांति के एक दिन पहले
    खूब सारा दूध कंडे की आग में
    गुलाबी गाढ़ा होने तक पकाती,
    फिर मिट्टी के बर्तन में उसी दूध से

    वाह दी वाह एक ही रचना में इतना कुछ कह दिया सचमुच पढ़कर आनंद आ गया मन और दिल दोनों को छू गयी.....!!



    उत्तर देंहटाएं
  8. महसूस करो तो हर पल महकती है माँ की खूशबू ..महकती हुई रचना के लिए बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  9. कितना मनोरम - मां के न पास होने की उदासी तो हैं,पर हर पल उसके एहसासों मे डुबोता यह चित्रण उससे दूर नहीं होने देता -आभार !

    उत्तर देंहटाएं