गुरुवार, 2 जनवरी 2014

मरीचिका...

हर पल कल की आशा
हर पल से मुग्धता
एक डोर बांधे रखती है
जीवन को साँसों से
कुछ रहस्य का मोह
ज्ञात का सम्मोह
अज्ञात को जानने का मोह
और भी गहन हो जाता है
संसार में मेरा होना
हम सबका होना
संबंध पुरातन सनातन का
रहस्य उस शक्तिमान का
जो हर बार बच जाता है
उजागर होने से
प्रतीत होता है जैसे
गुहा के भीतर गुहा है
और उसके भीतर भी गुहा
जारी रहता है पल - छिन
आना और जाना 
फिर भी रह जाता है
अनबूझा ---- अनजाना ---------

16 टिप्‍पणियां:

  1. रहस्‍य ही बना हुआ सब कुछ। गहन भाव।

    उत्तर देंहटाएं
  2. गहरी अभिव्यक्ति.....ये प्रश्न ही है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर अभिव्यक्ति..शुभकामनायें..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति...!
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाए...!
    RECENT POST -: नये साल का पहला दिन.

    उत्तर देंहटाएं
  5. गहन भाव लिए सुन्दर रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रस्तुति को आज की बुलेटिन हिंदी ब्लॉग्गिंग और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सत्य है !
    नया वर्ष २०१४ मंगलमय हो |सुख ,शांति ,स्वास्थ्यकर हो |कल्याणकारी हो |
    नई पोस्ट विचित्र प्रकृति
    नई पोस्ट नया वर्ष !

    उत्तर देंहटाएं
  8. सचमुच रेगिस्तान मे खोजता मन जीवन की छाँव

    उत्तर देंहटाएं
  9. शायद ये अनबूझा ,अनजाना ही जीवन की ऊर्जा बनता है...
    सुन्दर रचना.

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  10. उस अनजानी डोर को यूं ही रहने दो

    उत्तर देंहटाएं