गुरुवार, 15 अगस्त 2013

लहराओ तिरंगा...

स्वतंत्रता दिवस के पावन पर्व पर हार्दिक शुभकामनायें.....
 
देश का मुकुट हिमालय, सागर माथा अति पावन
गंगा जमना की धरती ये, संस्कृति लोक लुभावन
पुरवाई से महकती माटी,चंदन गंध सी मनभावन
सागर चरण पखारे इसके,झूम झूम के गाता सावन
रंग बिरंगे फ़ूल खिलते हैं,ॠषियों की धरती पावन
वीरों ने धूल चटाई सब को,काल यवन हो या रावन
जन्मे राम कृष्ण हैं यहाँ, धरती है यह अति पावन
अंग्रेजों की घोर गुलामी से, लड़ के आजादी पाई
देश धर्म रक्षा खातिर, वीर शहीदों ने जान गंवाई
स्वतंत्र हुए हम भारत वासी मिल जुल पर्व मनाओ
हिन्दू मुस्लिम सिख इसाई मिलके तिरंगा लहराओ
देश का मुकुट हिमालय, सागर माथा अति पावन
गंगा जमना की धरती ये, संस्कृति लोक लुभावन

19 टिप्‍पणियां:

  1. स्वतंत्रा दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ, देश भक्ति से परिपूर्ण ओजमय कविता के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर रचना,,,

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,
    ,
    RECENT POST: आज़ादी की वर्षगांठ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया.. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर भाव..... स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अतिसुन्दर ,स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. खुबसूरत अभिवयक्ति...... आपको भी स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएँ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. स्वतंत्रता दिवस पर बहुत बढ़िया प्रस्तुति संध्या जी ..... स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ!


    संजय भास्कर

    उत्तर देंहटाएं
  9. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  10. भारत माता की धान में सुन्दर भावमय गीत ...
    स्वतंत्रता दिवस की बधाई और शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्दर रचना.....
    स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह .... अनुपम भाव संयोजन ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुंदर पंक्तियाँ..... शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर रचना शुभकामनायें********

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...जय हिन्द!

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही अच्छी देशप्रेम से भरी हुई कविता .. आपको भी शुभकामनाये

    दिल से बधाई स्वीकार करे.

    विजय कुमार
    मेरे कहानी का ब्लॉग है : storiesbyvijay.blogspot.com

    मेरी कविताओ का ब्लॉग है : poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं


  17. वीरों ने धूल चटाई सब को,काल यवन हो या रावन
    जन्मे राम कृष्ण हैं यहाँ, धरती है यह अति पावन


    बहुत ओज-तेज और राष्टभक्ति भाव से परिपूर्ण रचना लिखी आपने...
    आदरणीया संध्या जी


    हार्दिक मंगलकामनाओं सहित...

    ♥ स्वतंत्रता दिवस ♥
    एवं
    ♥ रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं ! ♥
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    ---
    आप अभी तक हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {साप्ताहिक चर्चामंच} की चर्चा हम-भी-जिद-के-पक्के-है -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-002 मे शामिल नही हुए क्या.... कृपया पधारें, हम आपका सह्य दिल से स्वागत करता है। आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आगर आपको चर्चा पसंद आये तो इस साइट में शामिल हों कर आपना योगदान देना ना भूलें।
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    - हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}
    - तकनीक शिक्षा हब
    - Tech Education HUB

    उत्तर देंहटाएं