मंगलवार, 23 अप्रैल 2013

नवा - जूना...संध्या शर्मा

अरसे से 
ठसाठस भरा
अस्त-व्यस्त था
मन का  कमरा
आज समय मिला
नए - पुराने 

विचारों- भावों
रिश्ते-नातों
यादों-अहसासों को
झाड़-पोंछ
करीने से सहेजा
कुछ टीसती यादों को
बुहार बाहर किया 
खाली पड़े फूलदान में 

महकते अहसासों को सजाया 
बहुत जगह बन गई है
नयी उलझनों-सुलझनो को
दो पल सुस्ताने के लिए...

15 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छा लगता है रीअरेन्जमेन्ट...

    सुन्दर!!!!

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. यादों के अहसासों की सुंदर अभिव्यक्ति ,संध्या जी !!!

    RECENT POST: गर्मी की छुट्टी जब आये,

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut hi badhia....
    meri is website ko bhi dekhiyega
    http://www.theunpredictablegame.org/

    उत्तर देंहटाएं
  4. बीच-बीच में ऐसा करना अच्छा है..सुंदर भाव...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुस्ताने का पर्य़ाप्त वक्त दे सकेगा उलझनों का खाली कूडादान...
    अच्छे विचार संयोजन पद्य में...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ज़रूरी है समय समय पर अहसासों पर जमी धूल झाड़ना..बहुत सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  7. यादों-अहसासों को
    झाड़-पोंछ
    करीने से सहेजा
    कुछ टीसती यादों को
    बुहार बाहर किया
    खाली पड़े फूलदान में
    महकते अहसासों को सजाया------

    जीवन में भोगे हुये यथार्थ की गहन अनुभूति
    मन को आंदोलित करती रचना
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छे भाव हैं, सुन्दर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्दर भाव लिए बेहतरीन कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  10. मन का कमरा,
    बहुत सुन्दर भाव.
    आभार

    उत्तर देंहटाएं