गुरुवार, 6 जून 2013

व्याकुल पीड़ा ... संध्या शर्मा


....
कांक्रीट के जंगल में
अकेला खड़ा वटवृक्ष
भयभीत है...?
व्याकुल है आज
चौंक उठता है
हर आहट से
जबकि जोड़ रखे हैं
कितने रिश्ते - नाते
सांझ के धुंधलके में
दूर आसमान में
टिमटिमाते तारे
शांत हवा के झोंके में
गूंजता अनहद नाद
पाकर धरती का
कोमल स्पर्श
ना जाने क्यूँ
छलक उठे हैं
उसके मौन नयन...

28 टिप्‍पणियां:

  1. कांक्रीट के जंगल में
    अकेला खड़ा वटवृक्ष
    भयभीत है...?
    व्याकुल है आज
    चौंक उठता है
    हर आहट से
    प्रकृति का अद्भुत मानवीकरण किया है आपने गजब

    उत्तर देंहटाएं
  2. मौन नयन और छलके आंसू
    नीर बहे , न छिपाये आंसूं !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही अर्थपूर्ण. सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वृक्ष की पीड़ा को गहनता से महसूस किया

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया भावयुक्‍त कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मार्मिक रचना..जाने कब अकेला वटवृक्ष भी नहीं बचे..

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(8-6-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हमारी पोस्ट का लिंक कहीं भी लगाना वर्जित है, इसलिए हटा दें

      हटाएं
  8. कांक्रीट के जंगल में
    अकेला खड़ा वटवृक्ष
    भयभीत है...?
    sachmuch...

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. पर्यावरणवादी कविता। आज कल लोग पर्यावरण को लेकर बेफिक्र है और उसमें जरूरत से ज्यादा हस्तक्षेप भी कर रहे हैं। हो सकता है आपकी कविता सबकी आंखें खोल दें।

    उत्तर देंहटाएं
  12. अकेला वट ? नई जड़े कहाँ रोपेगा,सिमटते-सिमटते कितना जी पायेगा .कंक्रीट की त्रासदी कब तक झेल पाएगा !

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत खूब..,उम्दा प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  14. डरता है वो इन्सान के बनाए इन कंक्रीट के जंगलों से ...
    भावमय प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. काश वटवृक्ष की तरह इंसान भी अच्छे बुरे के बारे में सोच सकता
    जब वृक्ष बिना भेद-भाव के अपना हर कुछ लुटाने को तैयार है तो इंसान क्यों सिर्फ अपने स्वार्थ के लिए उसका नाश करने पर तुला हुआ है

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत उत्कृष्ट अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  17. दर्द को परिभाषित करने में सफल रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  18. वृक्ष की पीड़ा को महसूस किया शानदार रचना...

    उत्तर देंहटाएं