शनिवार, 15 मई 2021

कोरोना : आपबीती 3

दूसरे दिन आख़िर सुबह से ड्रिप लगा ही दी गई जो लगभग सात घंटे चली ! दवा , ड्रिप और ऑक्सीजन के साथ ये दोनों दिन सकुशल बीत गए और 8 मार्च की सुबह के राउंड के बाद हमें डिस्चार्ज मिल गया . शाम को चार बजे तक हम घर आ गए ! 

इधर घर को सेनेटाइज़ करवा लिया गया था . छोटी बहन सीमा ने सबकुछ तैयारी करके रखी थी ताकि हम नहाधोकर आराम कर सकें !

खाने पीने और सारी देखभाल का पूरा जिम्मा दोनों बहनों सरोज और सीमा ने ले लिया था, उन दोनों ने किसी भी बात की ज़रा सी भी कमी नहीं होने दी | हर बात का ध्यान रख रही थी ताकि हम जल्द से जल्द स्वस्थ हो जाएँ ! उधर दीपाश्री भी ख़ूब ध्यान रख रही थी ! हमारी सुबह, दोपहर और रात की हर रीडिंग पर नज़र थी उसकी ! डॉक्टर सारडा सर भी बराबर ध्यान दे रहे थे . घर आने के बाद भी हम दोनों का शुगर लेबल बहुत बढ़ा था, उन्होने इन्सुलिन और दवा देकर सामान्य लाने के सभी प्रयत्न किये ! 

घर आये अभी दो दिन भी नहीं हुए थे कि अंशुल की एक आँख में दर्द और लाली आ गई ! दूसरे दिन हल्का बुख़ार भी आ गया ! 11 मार्च को उसकी रिपोर्ट भी पॉज़िटिव आ गई ! अपनी तकलीफों और दर्द से उबर भी नहीं पाए थे कि बेटे का पॉज़िटिव होना बहुत दुःखी कर गया !  

अंशुल के लिए भी सारडा सर का इलाज़ शुरू हुआ ! लगभग चार या पाँच दिन बाद उन्होंने कहा 'यदि कल तक बुख़ार ठीक नहीं हुआ तो अंशुल को भी एडमिट करना होगा ' लेकिन ईश्वर की कृपा से उसके बाद उसे बुख़ार नहीं आया और सारडा सर के ईलाज़ से अंशुल घर पर रहकर ही दवाओं से स्वस्थ हो गया |

इस कोरोनाकाल में कोरोना प्रभावित होने पर भी मन में यही विश्वास था कि हमें स्वस्थ होना है और इसी विश्वास ने हमें कोरोना से जीत भी दिलाई ! 

कमज़ोरी बहुत थी! ऐसी कि ब्रश करने, खाना खाने तक से थकान होती थी !

लेकिन पौष्टिक प्रोटीन युक्त सादा कम तेल और मसाले का समय पर भोजन, फ़ल ( सेव, संतरे, मौसम्बी, कीवी, नारियल पानी ) आदि समय पर लिए तो कमज़ोरी भी काफी कम हो गई है ! खुश्बू भी आने लगी कुछ समय बाद .

मुनक्के को हल्का सा भूनकर उसमें सेंधा नमक डालकर चूसने से मुंह का स्वाद भी वापस आ गया है !  

"हम तीनों ने आइसोलेशन का पूर्णतः पालन किया ताकि हमारे कारण किसी भी व्यक्ति में कोरोना वायरस का संक्रमण न फैले | "

कोरोना से स्वस्थ होने के पश्चात् भी ध्यान रखने योग्य कुछ ज़रूरी बातें -

पोस्ट कोविड हेतु डॉक्टर से परामर्श लें और उनकी देखरेख में इलाज़ करवायें, क्योंकि दवाओं के विपरीत प्रभाव के कारण कई परेशानियाँ हो सकती हैं !

पौष्टिक प्रोटीनयुक्त भोजन करें !

भरपूर पानी पियें। 

आराम करें |

सामर्थ्य अनुसार हल्का व्यायाम करें |

मुंह की सफाई (oral hygiene) का ख़याल रखें ! दिन में कम से कम दो बार गुनगुने नमक के पानी से और एक बार बेटाडीन से गरारे करें |

दिन में दो से तीन बार भाप लें |

कुछ देर धूप में अवश्य बैठें |

कोरोना संक्रमण काल में लोग घबराहट के कारण मनोस्थिति से नियंत्रण खो रहे हैं। ऐसे समय में धैर्य के साथ महामारी का मुकाबला करना बहुत जरूरी है।

कोरोना की आधी जंग तो मन से जीती जा सकती है। डाक्टर सभी मरीजों को बेहतर उपचार देने का प्रयास करते हैं, लेकिन जो लोग मन से भय निकालकर धैर्य और सकारात्मक भाव से रहते हैं, वे कोरोना से लड़ाई में जीतकर पूरे समाज के लिए उदाहरण बनते हैं।

वायरल का सीजन है इसलिए बुखार आते ही कोरोना का भाव मन में लाना उचित नहीं। विशेषज्ञ डॉक्टर से सलाह लें व जांच कराएं। 

मन में सावधानी तो रहे लेकिन नकारात्मक भय न आने दें। 

कोरोना संबंधित समाचारों को कम से कम देखें। 

सोशल मीडिया पर आने वाले सभी तथ्य प्रमाणित नहीं होते। स्वविवेक से भी काम लें | मन में आने वाले विचारों की तार्किकता पर ध्यान दें|

व्यस्त दैनिक दिनचर्या रखें। टीवी पर न्यूज की जगह रियलिटी सीरियल, गेम्स देखें | मनपसंद संगीत सुनें | 

जो कोरोना मरीज स्वस्थ होकर अपना दैनिक जीवनयापन कर रहे हैं, उनसे सीख लेकर स्वयं को सकारात्मक भाव में रखें।

कहानियां, कविताएं, उपन्यास आदि पढ़कर अपना ज्ञानवर्धन करें। 

सबसे अधिक महत्वपूर्ण है, टीकाकरण करवाकर स्वयं को सुरक्षित करें व दूसरों को इसके लिए प्रेरित करें |

10 टिप्‍पणियां:

  1. इस कोरोनाकाल में कोरोना प्रभावित होने पर भी मन में यही विश्वास था कि हमें स्वस्थ होना है और इसी विश्वास ने हमें कोरोना से जीत भी दिलाई---यही साहस जरुरी है संध्या जी...। बहुत अच्छा लिखा है आपने, मन की बातों से गहरा और भला क्या हो सकता है।

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 16 मई 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. कोरोना संक्रमण काल में लोग घबराहट के कारण मनोस्थिति से नियंत्रण खो रहे हैं। ऐसे समय में धैर्य के साथ महामारी का मुकाबला करना बहुत जरूरी है।

    बेहद आवश्यक सलाह

    जवाब देंहटाएं
  4. हमें जीतना है . मन में यही दृढ विश्वास रखना चाहिए . अच्छी सलह और जानकारी युक्त पोस्ट .

    जवाब देंहटाएं
  5. कोरोना पर विजय के साथ साथ आपका यह लेख कोरोना से लड़ने का एक सकारात्मक संदेश दे गया,आपको मेरा सादर नमन एवम शुभकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं
  6. अंततः सब ठीक हो गया दी

    जवाब देंहटाएं
  7. कोरोना को हराने हेतु बहुत उपयोगी जानकारी।

    जवाब देंहटाएं
  8. विश्वास की जीत हुई ... सबके स्नेह एवम सहयोग से आप सब विजयी हुए .. बहुत ही सकारात्मक और प्रेरक लिखा आपने।
    अनंत शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं